Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-381💐

संदेशु भेजि भेजि वे खेलि रहे होरी हैं,
मैं उनकी डोरि डोरि हूँ वे मेरी डोरी हैं,
डोरि कठोरि वामे कामना को कनु नाहिं,
नाहिं है असत भाव प्रेम भरी बोरी है,
बोरी ही पिचकारि वामे स्मरन को रंग डारि,
डारि डारि रंग कूँ भिगाय बने भोरी हैं,
भोरी भोरी कहें तबहुँ वे सुनत नाहिं,
होले होले करलिहो है हरदय चोरी है,
चोरी चोरी मन चुराय लियो ‘अभिषेक’ को,
जीव निकार लियो,देह छोरी छोरी है।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*दुनिया में हों सभी निरोगी, हे प्रभु ऐसा वर दो (गीत)*
*दुनिया में हों सभी निरोगी, हे प्रभु ऐसा वर दो (गीत)*
Ravi Prakash
जिंदगी और रेलगाड़ी
जिंदगी और रेलगाड़ी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जो भी मिलता है दिलजार करता है
जो भी मिलता है दिलजार करता है
कवि दीपक बवेजा
कल बहुत कुछ सीखा गए
कल बहुत कुछ सीखा गए
Dushyant kumar Patel
आया है फागुन आया है
आया है फागुन आया है
gurudeenverma198
बिषय सदाचार
बिषय सदाचार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
💐अज्ञात के प्रति-61💐
💐अज्ञात के प्रति-61💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चेतावनी
चेतावनी
Shekhar Chandra Mitra
सबके दामन दाग है, कौन यहाँ बेदाग ?
सबके दामन दाग है, कौन यहाँ बेदाग ?
डॉ.सीमा अग्रवाल
हम सुधरेंगे तो जग सुधरेगा
हम सुधरेंगे तो जग सुधरेगा
Sanjay
■ अनुभूत सच
■ अनुभूत सच
*Author प्रणय प्रभात*
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shyam Sundar Subramanian
कभी मिलो...!!!
कभी मिलो...!!!
Kanchan Khanna
हाँ मैं नारी हूँ
हाँ मैं नारी हूँ
Surya Barman
उस दर्द की बारिश मे मै कतरा कतरा बह गया
उस दर्द की बारिश मे मै कतरा कतरा बह गया
'अशांत' शेखर
हमें यह ज्ञात है, आभास है
हमें यह ज्ञात है, आभास है
DrLakshman Jha Parimal
वक़्त सितम इस तरह, ढा रहा है आजकल,
वक़्त सितम इस तरह, ढा रहा है आजकल,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Tum likhte raho mai padhti rahu
Tum likhte raho mai padhti rahu
Sakshi Tripathi
दामन
दामन
Dr. Rajiv
भगवान ने जब सबको इस धरती पर समान अधिकारों का अधिकारी बनाकर भ
भगवान ने जब सबको इस धरती पर समान अधिकारों का अधिकारी बनाकर भ
Nav Lekhika
आदिकवि सरहपा।
आदिकवि सरहपा।
Acharya Rama Nand Mandal
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
क़ायम कुछ इस तरह से
क़ायम कुछ इस तरह से
Dr fauzia Naseem shad
कोरोना महामारी
कोरोना महामारी
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
তুমি সমুদ্রের তীর
তুমি সমুদ্রের তীর
Sakhawat Jisan
हो जाओ तुम किसी और के ये हमें मंजूर नहीं है,
हो जाओ तुम किसी और के ये हमें मंजूर नहीं है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
हंसने के फायदे
हंसने के फायदे
Manoj Kushwaha PS
कलम की ताकत और कीमत को
कलम की ताकत और कीमत को
Aarti Ayachit
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
प्रेमदास वसु सुरेखा
2247.
2247.
Dr.Khedu Bharti
Loading...