Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 27, 2016 · 1 min read

संज्ञा

जी हाँ, संज्ञा हूँ मैं।
व्यक्ति या वस्तु?
कभी-कभी ये बात
सोच में डाल देती है
रूप है, रंग है
आकार भी है
दिल भी ,दिमाग भी
फिर भी कभी -कभी
लगता है जैसे
वस्तु ही हूँ मैं
जिसे जहाँ चाहे रख दो
मन हो उठा लो
या, शो केस में सजा लो
या फिर उठा के डाल दो बाहर
इक धडकता दिल
तो है सीने में
पर धडकन किसी को
सुनाई न देती
इच्छाएँ,आशाएँ,उम्मीदें भी हैं
जो किसी को दिखाई न देती
अब तो खुद ही भ्रमित हूँ
कि क्या हूँ मैं
निर्जीव या सजीव
बस,संज्ञा हूँ मैं ।

8 Comments · 191 Views
You may also like:
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
दहेज़
आकाश महेशपुरी
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
महँगाई
आकाश महेशपुरी
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Dr. Kishan Karigar
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
Loading...