Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 6, 2022 · 1 min read

स्पर्धा भरी हयात

इस हयात में हमें बार बार
करना पड़ता आत्मश्लाघा
संघर्ष के तत्पश्चात ही हमें
मिलती ये धान्य ए-जिदगी ।

संघर्ष से हमें कभी भव में
सकुचाना न चाहिए यदा
इन्हीं में तो हम सबों को
होती अपनों की द्योतक ।

अपने इस ऐश्वर्या जीवन में
तप – ए – तपस्या पर किया,
करता है जो परिपूर्ण जागीर
उसका जीवन होता कामयाब ।

जीवन में अगर स्पर्धा न होती
जिंदगी हमारी मुर्दे जैसे होती
हयात में मिलती पराभव अनेक
संघर्ष के उपरांत मिलती मंजिल ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

128 Views
You may also like:
✍️सलीक़ा✍️
'अशांत' शेखर
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
वजह क्या हो सकती है
gurudeenverma198
फुर्तीला घोड़ा
Buddha Prakash
गजलकार रघुनंदन किशोर "शौक" साहब का स्मरण
Ravi Prakash
राष्ट्रीय ध्वज का इतिहास
Ram Krishan Rastogi
तुम हो फरेब ए दिल।
Taj Mohammad
पर्यावरण
सूर्यकांत द्विवेदी
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
Jyoti Khari
*हर घर तिरंगा (गीतिका)*
Ravi Prakash
✍️दिल में ही रहता हूं✍️
'अशांत' शेखर
दर्द होता है
Dr fauzia Naseem shad
मेरी आजादी बाकी है
Deepak Kohli
मोहब्बत ही आजकल कम हैं
Dr.sima
ऐ बादल अब तो बरस जाओ ना
नूरफातिमा खातून नूरी
गाफिल।
Taj Mohammad
मुखर तुम्हारा मौन (गीत)
Ravi Prakash
ग़ज़ल- राना सवाल रखता है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
इश्क़ में ज़िंदगी नहीं मिलती
Dr fauzia Naseem shad
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
मैं तुम्हें पढ़ के
Dr fauzia Naseem shad
*"यूँ ही कुछ भी नही बदलता"*
Shashi kala vyas
दो चार अल्फाज़।
Taj Mohammad
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग८]
Anamika Singh
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हम है गरीब घर के बेटे
Swami Ganganiya
सूरज काका
Dr Archana Gupta
सियासत की बातें
Dr. Sunita Singh
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
Loading...