Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

संकरण हो गया

संकरण हो गया जब से प्रकृति के बाग़ में
भौंरे बागों से कोसो दूर जाने लगे
अब तो फूलों में भी रंजिशें हो गईं
एक दूजे को देख के मुरझाने लगे

फूल कम खिल रहे हैं अब तो बाग़ में
फूल कम हैं बचे माली के भाग में
माली ने कितना चाहा है बाग़ को
के उगाने में उसको ज़माने लगे
संकरण हो गया जब से प्रकृति के बाग़ में
भौंरे बागों से कोसो दूर जाने लगे

रंग तो फूल का अब गया है बदल
भीनी खुशबू उसमे से अब आती नहीं
मधुमक्खियाँ भी आजकल फूल तक
शहद ले जाने खातिर जाती नहीं
माली के हाथ से होता कम अंकुरण
बीज जाने किन हाथों में जाने लगे
संकरण हो गया जब से प्रकृति के बाग़ में
भौंरे बागों से कोसो दूर जाने लगे

फूल ताजे कहाँ मिलते हैं आजकल
मिल गए भी तो उनमे कोई खुशबू नहीं
अनेको रंग -बिरंगे फूल हैं मिल रहे
पर उन्हे सूंघने की कोई आरजू नहीं
फूल को जेब में रखता अब कौन है?
इत्र अनेकों तरह के जो लगाने लगे
संकरण हो गया जब से प्रकृति के बाग़ में
भौंरे बागों से कोसो दूर जाने लगे
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

134 Views
You may also like:
बचपन की यादें
Anamika Singh
✍️✍️हिमाक़त✍️✍️
"अशांत" शेखर
✍️मेरा जिक्र हुवा✍️
"अशांत" शेखर
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
क्रांतिसूर्य
"अशांत" शेखर
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
"अशांत" शेखर
मन
शेख़ जाफ़र खान
शिव स्तुति
अभिनव मिश्र अदम्य
नैतिकता और सेक्स संतुष्टि का रिलेशनशिप क्या है ?
Deepak Kohli
नीति के दोहे
Rakesh Pathak Kathara
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
बच्चों को खूब लुभाते आम
Ashish Kumar
करते है प्यार कितना ,ये बता सकते नही हम
Ram Krishan Rastogi
जीत-हार में भेद ना,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*योग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रामकथा की अविरल धारा श्री राधे श्याम द्विवेदी रामायणी जी...
Ravi Prakash
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित ,...
Subhash Singhai
नशा नहीं सुहाना कहर हूं मैं
Dr Meenu Poonia
Daughter of Nature.
Taj Mohammad
*श्री हुल्लड़ मुरादाबादी 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
भगवान विरसा मुंडा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कठपुतली न बनना हमें
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...