Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

सँभल जा मानव…

स्वार्थ-ग्रसित हो सीने में प्रकृति के, नित खंजर तूने भोंके हैं ।
पग- पग चेतावनी देकर उसने, पग बढ़ने से तेरे रोके हैं ।
नामुमकिन है कुदरत को तेरा, वश में यूँ अपने कर पाना,
सँभल जा मानव, ये ख्वाब विजय के तेरी आँखों के धोखे हैं ।
-डॉ.सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद

5 Likes · 4 Comments · 386 Views
You may also like:
हम आजाद पंछी
Anamika Singh
ये लखनऊ है मेरी जान।
Taj Mohammad
जीवन उर्जा ईश्वर का वरदान है।
Anamika Singh
ज़िन्दगी के किस्से.....
Chandra Prakash Patel
आमाल।
Taj Mohammad
जब सावन का मौसम आता
लक्ष्मी सिंह
पिंजरबद्ध प्राणी की चीख
AMRESH KUMAR VERMA
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गम देके।
Taj Mohammad
पहले दिन स्कूल (बाल कविता)
Ravi Prakash
शहीद का पैगाम!
Anamika Singh
मोतियों की सुनहरी माला
DESH RAJ
इन ख़यालों के परिंदों को चुगाने कब से
Anis Shah
वेदना जब विरह की...
अश्क चिरैयाकोटी
एकाकीपन
Rekha Drolia
रोज हम इम्तिहां दे सकेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
योग
DrKavi Nirmal
"शौर्य"
Lohit Tamta
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
हसद
Alok Saxena
महँगाई
आकाश महेशपुरी
ग़ज़ल
Awadhesh Saxena
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
यशोधरा के प्रश्न गौतम बुद्ध से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
एहसास पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मुस्कुराइये.....
Chandra Prakash Patel
ग्रह और शरीर
Vikas Sharma'Shivaaya'
छंदानुगामिनी( गीतिका संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गुरूर का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
नहीं रहे "कहो न प्यार है" के गीतकार व हरदिल...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...