Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

श्वासों का होम

नित्य होम श्वासों का करता हूँ
नित्य ही जीता नित्य ही मरता हूँ

सूनी आँखों में स्वप्न सँजोए हैं,
बगिया में थोड़े पौधे बोए हैं
विकसित होंवें ये फूलें और फलें,
श्रम से इनमें स्पंदन भरता हूँ

इन जगमग करती सड़कों के पीछे,
कुछ अँधियारी बस्ती भी पसरी हैं
उस अंधकार में जलते दीपों का,
कोटि कोटि अभिनंदन करता हूँ

खत्म हो चुके सारे संवेदन,
गीध सदृश नोचें नारी का तन
कब तक मानस में रावण पनपेंगे,
सोच सोच कर क्रंदन करता हूँ

पीर बड़ी है आहत है तन मन,
पीड़ा में आनंद ढूँढता मन
प्रसव वेदना सहकर दे जीवन,
उन माताओं का वंदन करता हूँ

कृष्ण भले ही श्याम वर्ण है तन,
लेकिन कलुष रहित है मेरा मन
स्वाभिमान ही है मेरी पूँजी,
पुरुषारथ का अभिनंदन करता हूँ

नित्य होम श्वासों का करता हूँ
नित्य ही जीता नित्य ही मरता हूँ

श्रीकृष्ण शुक्ल, मुरादाबाद
9456641400

261 Views
You may also like:
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
मेरी लेखनी
Anamika Singh
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
पिता की याद
Meenakshi Nagar
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
संत की महिमा
Buddha Prakash
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
आओ तुम
sangeeta beniwal
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
Loading...