Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 3, 2022 · 1 min read

श्रृंगार

सृष्टि का करता सृजन
स्वयं सौंदर्य का आधार है ,
विध्वंस और निर्माण जिसकी
दृष्टि का चमत्कार है ,
अवतरित हुआ धरा पर
नित्य करने नव अनुभूति ,
स्वयं करता सृष्टि रचियता
सृष्टि का श्रृंगार है

1 Like · 110 Views
You may also like:
Your laugh,Your cry.
Taj Mohammad
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार "कर्ण"
बुजुर्गो की बात
AMRESH KUMAR VERMA
गरीब की बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
मातृ रूप
श्री रमण
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वो कली मासूम
सूर्यकांत द्विवेदी
बंद हैं भारत में विद्यालय.
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मृत्यु
AMRESH KUMAR VERMA
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
रुतबा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मेरी लेखनी
Anamika Singh
भारत लोकतंत्र एक पर्याय
Rj Anand Prajapati
ऐसे हैं मेरे पापा
Dr Meenu Poonia
कुंडलियां छंद (7)आया मौसम
Pakhi Jain
पूंजीवाद में ही...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
रात गहरी हो रही है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
" बिल्ली "
Dr Meenu Poonia
विवश मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मैं हो गई पराई.....
Dr. Alpa H. Amin
आया सावन - पावन सुहवान
Rj Anand Prajapati
ज़रा सी देर में सूरज निकलने वाला है
Dr. Sunita Singh
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
रावण का मकसद, मेरी कल्पना
Anamika Singh
हम हैं
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
Loading...