Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2022 · 1 min read

श्रीमती का उलाहना

मेरी कविताओं को देख,
श्रीमती का उलाहना है,
सारे भाव ख्वाबों में आते,
मुझे देख न कुछ आता है;
मैं कहता हूंँ दिल में भाव,
तुम्हें देख उमड़ता है,
“हेतु-हेतु मद् भूतकाल’
का सारा उदाहरण बनता है;
तुम अगर लैला होती,
तो मैं मजनूं पैदा होता,
और यदि तुम रांँझा होती
तो हीर बन पैदा लेता;
मर्लिन मुनरो या होती मधुबाला,
तो मेरी बस्ती होती मधुशाला,
या होती नरगिस-सुरैया,
तो करता मैं ता-ता थैया;
पर जो भी हो,
तुम लाजवाब हो,
मेरी कविता
की ख्वाब हो,
जब भी देखूंँ तेरी ओर,
तुम सूर्ख लाल गुलाब हो।

मौलिक व स्वरचित
©® श्री रमण
बेगूसराय (बिहार)

9 Likes · 13 Comments · 233 Views
You may also like:
मेरी प्रथम शायरी (2011)-
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
कोई तो बताए हमें।
Taj Mohammad
✍️अरमानों की फरमाईश कर बैठे
'अशांत' शेखर
“ यादों के सहारे ”
DrLakshman Jha Parimal
*जातिवाद का खण्डन*
Dushyant Kumar
नया सपना
Kanchan Khanna
मंजिले जुस्तजू
Vikas Sharma'Shivaaya'
समय का इम्तिहान
Saraswati Bajpai
दे सहयोग पुरजोर
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
सौगंध
Shriyansh Gupta
आखरी उत्तराधिकारी
Prabhudayal Raniwal
*पंडित ज्वाला प्रसाद मिश्र और आर्य समाज-सनातन धर्म का विवाद*
Ravi Prakash
हर घर तिरंगा
अश्विनी कुमार
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
गीत... हो रहे हैं लोग
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
बस तेरे लिए है
bhandari lokesh
अतिथि तुम कब जाओगे
Gouri tiwari
जन्मदिवस का महत्व...
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
संघर्ष
Anamika Singh
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
तारे-तारे आसमान में
Buddha Prakash
गुुल हो गुलशन हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
डरिये, मगर किनसे....?
मनोज कर्ण
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
उम्मीद
Sushil chauhan
मुफ़लिसी मुँह
Dr fauzia Naseem shad
हे मात जीवन दायिनी नर्मदे हर नर्मदे हर नर्मदे हर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ऑन कर स्विच ज़िन्दगी का
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...