Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2022 · 1 min read

श्रावण सोमवार

श्रावण सोमवार का मेला है, त्यौहार बड़ा अलबेला है
हर हर बम बम भोले गूंज रहा, जन- दर्शन को उमड़ रहा
बादल अभिषेक को आए हैं, घनघोर घटाएं लाए हैं
सावन जमकर बरस रहा, जलधार धरा को चढ़ा रहा
उमड़ रही सर सरिताएं, खेत बाग तरूवर लताएं
फूट पड़े झरने गिरवर से, कल कल गीत खुशी के गाएं
धरती अंबर का प्रेम मिलन है, प्रकृति का हर जीव मगन है
त्रय ताप का हुआ समन है, नाच रहा है मन मयूर
बिजली और मेघ नर्तन है
सजे हुए हर ओर शिवाले, तीर्थ सरोवर मंदिर सारे
जन समुद्र की लहरें जैसे, शिव सागर के आईं किनारे
पुष्प पत्र फलफूल लिए, धानी चूनर धरा है धारे
नयनाभिराम हर दृश्य धरा पर, मन मोह रहा नैना रतनारे
श्रावण सोमवार अनुपम है, ऊं नमः शिवाय मंत्र उचारे
हर हर गंगे हर महादेव ओमकार गगन में गूंजा रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

2 Likes · 1 Comment · 75 Views
You may also like:
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
कहां पर
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
पिता
Buddha Prakash
पिता
Shailendra Aseem
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
तुम मेरा दिल
Dr fauzia Naseem shad
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...