Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 14, 2017 · 1 min read

श्राद्ध पक्ष

श्राद्ध पक्ष
घनाक्षरी छंद

कभी नहीं जाना हाल जरा ना किया ख्याल
बीमारियां पिताजी को आती रहीं घेर घेर
सेवा कार्य नहीं किया मौका देख भाग लिया
नहीं सहयोग दिया गया मुख फेर फेर
अंत का समयआया आग भी लगा न पाया
ससुराल वालों से मिलाता रहा मेर मेर
व्यंजनों को सानकर आज बाप मानकर
कौवों को खिला रहा है वही पुत्र टेर टेर

गुरू सक्सेना नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश)

273 Views
You may also like:
बहुमत
मनोज कर्ण
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
पिता का दर्द
Nitu Sah
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
देश के नौजवानों
Anamika Singh
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
प्यार की तड़प
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Satpallm1978 Chauhan
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...