Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 15, 2022 · 2 min read

श्रद्धा और सबुरी ….,

✒️📙जीवन की पाठशाला 📖🖋️

🙏 मेरे सतगुरु श्री बाबा लाल दयाल जी महाराज की जय 🌹

जीवन चक्र ने मुझे सिखाया की अक्सर कहा जाता है की पैसा जोड़ कर रखो बुरे वक़्त में काम आता है पर मेरा अनुभव कहता है की उस परमपिता परमेश्वर -अपने इष्ट और गुरु पर मन वाणी करम से पूर्ण विश्वास रखें ,मिटटी हो जाएं- बुरा वक़्त आएगा ही नहीं और अगर बुरा वक़्त आता भी है तो शुक्राना करें इनका की ये आपके बुरे वक़्त को लाकर आपके पूर्व और इस जन्म के जाने अनजाने गुनाहों को काट कर आप पर रहमत कर रहे हैं जिससे की आपका शेष जीवन शांति से व्यतीत हो …,

जीवन चक्र ने मुझे सिखाया की जो भी कार्य करो पूर्ण शिद्दत -निष्ठा -ईमानदारी -समर्पण और त्याग के साथ करो ,अपना शत प्रतिशत दो ,शेष उस ईश्वर पर छोड़ दो ,कहा भी गया है की कर्म आपके हाथ में है पर फल उस पर छोड़ दो …,

जीवन चक्र ने मुझे सिखाया की आशा और उम्मीद का दामन कभी भी किसी भी हाल में नहीं छोड़ना चाहिए ,मेरा व्यक्तिगत अनुभव कहता है की आप जैसा सोचेंगें ईश्वर आपको राह दिखाएंगे -आपकी सोच के अनुरूप आपको देंगें बशर्ते उसमें सबका भला हो ना की किसी के प्रति कोई बुरी धारणा …सबसे बड़ी बात -श्रद्धा और सबुरी ….,

आखिर में एक ही बात समझ आई की जिंदगी में कई बार ऐसा मुकाम भी आता है जब रात्रि को सोते समय करवट लेने पर एक तरफ यादों के साये आपको सताते और आँखों में आंसू लाते हैं और दूसरी तरफ करवट बदलने पर खालीपन -तन्हाई आपको जकड लेते हैं …शायद इसी का नाम जिंदगी है ..तभी तो कहा भी गया है की हर किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता -किसी को जमीं तो किसी को आसमान नहीं मिलता …,

Mantra for Prosperity:-

Om Shreem Hreem Shreem
Namo Bhagawathy Danalakshmi, Dhanam Dehi, Shriyam Dehi,
Shreem Hreem Shreem
Nama Swaha.
ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं
नमो भगवते
धनलक्ष्मी धनम देहि
श्रियं देहि
श्रीं ह्रीं श्रीं
नमः स्वाहा

बाकी कल ,खतरा अभी टला नहीं है ,दो गज की दूरी और मास्क 😷 है जरूरी ….सावधान रहिये -सतर्क रहिये -निस्वार्थ नेक कर्म कीजिये -अपने इष्ट -सतगुरु को अपने आप को समर्पित कर दीजिये ….!
🙏सुप्रभात 🌹
आपका दिन शुभ हो
विकास शर्मा'”शिवाया”
🔱जयपुर -राजस्थान 🔱

67 Views
You may also like:
पिता
Vijaykumar Gundal
शांत वातावरण
AMRESH KUMAR VERMA
कामयाबी
डी. के. निवातिया
संगम....
Dr. Alpa H. Amin
मनुआँ काला, भैंस-सा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
महाराणा प्रताप
jaswant Lakhara
ठोकर तमाम खा के....
अश्क चिरैयाकोटी
तुम निष्ठुर भूल गये हम को, अब कौन विधा यह...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
नन्हा बीज
मनोज कर्ण
बेबसी
Varsha Chaurasiya
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
'बेदर्दी'
Godambari Negi
✍️पत्थर✍️
"अशांत" शेखर
✍️✍️रूपया✍️✍️
"अशांत" शेखर
बदलती परम्परा
Anamika Singh
#udhas#alone#aloneboy#brokenheart
Dalvir Singh
बिछड़न [भाग २]
Anamika Singh
मजदूर.....
Chandra Prakash Patel
एक प्रेम पत्र
Rashmi Sanjay
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मन पीर कैसे सहूँ
Dr. Sunita Singh
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
उस दिन
Alok Saxena
"आज बहुत दिनों बाद"
Lohit Tamta
वक्त सा गुजर गया है।
Taj Mohammad
बेफिक्री का आलम होता है।
Taj Mohammad
उत्साह एक प्रेरक है
Buddha Prakash
कोई ना हमें छेड़े।
Taj Mohammad
रास रचिय्या श्रीधर गोपाला।
Taj Mohammad
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
Loading...