Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2020 · 1 min read

श्रद्धाँजलि

*श्रद्धाँजलि*
जलियांवाला बाग दिवस,
याद हमें दिलाता है।
वीर शहीदो के चरणों
शीश स्वयं झुक जाता है।
गुलामी के अत्याचारों की
याद सदा दिलाता है।
निर्दोषो की हत्या सुन पढ़
जी सबका भर जाता है।
हाथ मसल रह जाते
मन दुखी हो जाता है।
अब न आवे ऐसा समय
संकल्प जी में आता है।
इकजुट हों राष्ट्र हित में
सबक हमेंं सिखलाता है।
आपसी मतभेद भूल
लड़ना सदा सिखाता है।
शांति अहिंसा भाईचारा
कायरता नहीं हमारी है।
दुनिया में फैले भ्रम को
आज मिटाना जरूरी है।
श्रद्धाँजलि समर्पित करने
चरण पुष्प चढ़ाते है।
बलिदान आपका व्यर्थ न हो
प्रतिज्ञा पुनःदोहराते है।
(राजेश कुमार कौरव सुमित्र)

Language: Hindi
Tag: कविता
6 Likes · 4 Comments · 205 Views

Books from Rajesh Kumar Kaurav

You may also like:
बहकने दीजिए
बहकने दीजिए
surenderpal vaidya
नववर्ष तुम्हे मंगलमय हो
नववर्ष तुम्हे मंगलमय हो
Ram Krishan Rastogi
काँच के टुकड़े तख़्त-ओ-ताज में जड़े हुए हैं
काँच के टुकड़े तख़्त-ओ-ताज में जड़े हुए हैं
Anis Shah
हृदय परिवर्तन जो 'बुद्ध' ने किया ..।
हृदय परिवर्तन जो 'बुद्ध' ने किया ..।
Buddha Prakash
🤗🤗क्या खोजते हो दुनिता में  जब सब कुछ तेरे अन्दर है क्यों दे
🤗🤗क्या खोजते हो दुनिता में जब सब कुछ तेरे अन्दर...
Swati
आरंभ
आरंभ
मनोज कर्ण
राष्ट्रीय युवा दिवस
राष्ट्रीय युवा दिवस
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*रिश्ते के लिए खिंचवाया जाने वाला  फोटो (हास्य व्यंग्य)*
*रिश्ते के लिए खिंचवाया जाने वाला फोटो (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
गीता के स्वर (17) श्रद्धा
गीता के स्वर (17) श्रद्धा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
बदल गया मेरा मासूम दिल
बदल गया मेरा मासूम दिल
Anamika Singh
💐अज्ञात के प्रति-145💐
💐अज्ञात के प्रति-145💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पसंदीदा व्यक्ति के लिए.........
पसंदीदा व्यक्ति के लिए.........
Rahul Singh
मेरी सफर शायरी
मेरी सफर शायरी
Ankit Halke jha
इश्क़ का दस्तूर
इश्क़ का दस्तूर
VINOD KUMAR CHAUHAN
” विषय ..और ..कल्पना “
” विषय ..और ..कल्पना “
DrLakshman Jha Parimal
जेंडर जेहाद
जेंडर जेहाद
Shekhar Chandra Mitra
कभी
कभी
Ranjana Verma
दिल में भी इत्मिनान रक्खेंगे ।
दिल में भी इत्मिनान रक्खेंगे ।
Dr fauzia Naseem shad
बोल हिन्दी बोल, हिन्दी बोल इण्डिया
बोल हिन्दी बोल, हिन्दी बोल इण्डिया
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सबके दामन दाग है, कौन यहाँ बेदाग ?
सबके दामन दाग है, कौन यहाँ बेदाग ?
डॉ.सीमा अग्रवाल
हिचकियां
हिचकियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मंथरा के ऋणी....श्री राम
मंथरा के ऋणी....श्री राम
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
पिता की अस्थिया
पिता की अस्थिया
Umender kumar
हिंदी माता की आराधना
हिंदी माता की आराधना
ओनिका सेतिया 'अनु '
सबका मालिक होता है।
सबका मालिक होता है।
Taj Mohammad
सरकार के सारे फ़ैसले
सरकार के सारे फ़ैसले
*Author प्रणय प्रभात*
✍️सारे अपने है✍️
✍️सारे अपने है✍️
'अशांत' शेखर
"ललकारती चीख"
Dr Meenu Poonia
दिसम्बर की रातों ने बदल दिया कैलेंडर /लवकुश यादव
दिसम्बर की रातों ने बदल दिया कैलेंडर /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
Book of the day: महादेवी के गद्य साहित्य का अध्ययन
Book of the day: महादेवी के गद्य साहित्य का अध्ययन
Sahityapedia
Loading...