Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 13, 2022 · 2 min read

“शौर्य”

मेरा भी घर था, मेरा भी परिवार था,
मेरी भी एक मोहब्बत थी जिससे मुझे बेइंतहा प्यार था,
मेरी भी एक दास्ताँ थी, शुरू हुई जवानी थी,
पहाड़ों की वादियों में छुपी मेरी भी एक कहानी थी,
हँस-मुख सा चंचल मैं मस्त मगन रहता था, एक लेखक बनने की चाहत को दिल में लिए फिरता था,
मगर अपने पिता और दादा जी जैसा फ़ौजी बनने का जुनून मेरी चाहत से ज्यादा था,
18 साल की उम्र में मेरे घर एक चिट्टी आई मेरी माँ और घर से दूर वो मुझे खिंच लाई,
4 साल की ट्रेनिंग में माँ और घर की याद बहुत सताई,
फ़िर कंधों में 2 सितारे ऐसे चमके, आसमान के हज़ारों सितारे भी उनके सामने फिके लगे,
अफसर बन के ठाट की ज़िन्दगी अगर बिताता तो पिता के वचन का मूल कैसे चुकाता,
उनकी तस्वीर को किसी फूल की माला से नहीं अपने मैडल से जो सजाना था, अपने आप से किया ये मैंने वादा था,
उनकी तरह मैंने भी बलिदान के शब्द को पहचाना था,
लेके अपना बस्ता कमांडो ट्रेनिंग स्कूल बढ़ चला,
कीचड़ के पानी से मेरा स्वागत हुआ, फ़िर अपने एक पसंदीदा हथियार को मैंने चुना,
7 दिन तक भूखा-प्यासा बस दौड़ता रहा, 6 महीने की वो कठोर परीक्षा के बाद 9 पैरा स.फ के बलिदान बैज को हासिल किया,
अब मुझको राण भूमि में जाना था क़र्ज़ था जो देश का मुझपे वो चुकाना था,
मणिपुर में मेरी पहली पोस्टिंग और माँ का वो काँप जाना था, ज़िंदा लौटूंगा माँ ये झूठा वादा माँ से करना मेरा आम था,
यूँ तो जब-जब मैं सरहद पे जाता एक तस्वीर बट्वे से निकल के उसे बात करने लग जाता, इश्क़ था अधूरा मेरा बच्पन का प्यार था सोच के उसके बारे में आँसू चुपके से बहता था,
आँसू जब भी आते थे तो कभी 0डिग्री में जम जाते या तो 50 में सुख जाते थे,
जब कभी छुट्टी में घर जाता एक इमरजेंसी कॉल आ जाता, जंग के लिए फ़िर से मैं सज्ज हो जाता,
शादी की तारीख नज़दीक थी मेरी उस रोज़ भी ऐसा ही कॉल आया था,
युद्ध भूमि में मुझे टीम लीड करने को बुलाया था,
सीने में 2 गोली और पैर में 4 खा के भी मैंने दुश्मन को मार गिराया था,
आज अपने पिता की फोटो को मैंने अपने मेडल्स से सजाया है,
क्योंकि राण भूमि में मैंने भी अपना रक्त बहाया है,
आज ज़िस्म में वर्दी नहीं है तो क्या हुआ गोलियों के निशा को मैंने अपने जिस्म में शौर्य की तरह सजाया है।
“लोहित टम्टा”

3 Likes · 6 Comments · 102 Views
You may also like:
सपनों का महल
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
आप कौन से मुसलमान है भाई ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
बहुत हुशियार हो गए है लोग
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
निद्रा
Vikas Sharma'Shivaaya'
सुर बिना संगीत सूना.!
Prabhudayal Raniwal
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
शोहरत और बंदर
सूर्यकांत द्विवेदी
भारत की जमीं
DESH RAJ
तब से भागा कोलेस्ट्रल
श्री रमण
कुछ गुनाहों की कोई भी मगफिरत ना होती है।
Taj Mohammad
✍️टिकमार्क✍️
"अशांत" शेखर
गर्मी पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
कविराज
Buddha Prakash
साहब का कुत्ता (हास्य व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
✍️आव्हान✍️
"अशांत" शेखर
$गीत
आर.एस. 'प्रीतम'
कोई हमारा ना हुआ।
Taj Mohammad
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:35
AJAY AMITABH SUMAN
करो नहीं व्यर्थ तुम,यह पानी
gurudeenverma198
एक मजदूर
Rashmi Sanjay
अल्फाज़ हैं शिफा से।
Taj Mohammad
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मैं परछाइयों की भी कद्र करता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरा स्वाभिमान है पिता।
Taj Mohammad
मुक्तक: युद्ध को विराम दो.!
Prabhudayal Raniwal
सदगुण ईश्वरीय श्रंगार हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️इँसा और परिंदे✍️
"अशांत" शेखर
✍️प्रेम खेळ नाही बाहुल्यांचा✍️
"अशांत" शेखर
बुलबुला
मनोज शर्मा
जिदंगी के कितनें सवाल है।
Taj Mohammad
Loading...