Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jun 2022 · 3 min read

शैशव की लयबद्ध तरंगे

मेरी याददाश्त बचपन से बहुत तेज थी। चार-पाॅंच वर्ष की अवस्था में मैं बहुत खबूस थी। अबोध और विस्मय से भरी खाने पीने की दुनिया मुझे सदैव आकर्षित करती रहती थी। वाकया 1974 का होगा …हाता दुर्गा प्रसाद , जहां सात आठ घर आसपास बने थे , वहाॅं मेरा घर गली शुरू होते ही पांचवें नंबर पर था | लोग सैर को जाते, एक दूसरे की पूरी खबर भी रखते, चिंता भी करते। मोहल्ले के बड़े लोग मम्मी के ‘अनकहे ससुर’ होते और पापा के हमउम्र लोग ‘भैया’। बराबर की महिलाएं अपने आप ‘बीबी जी’ बन जाती थीं। एक अलग तरह का माहौल होता था तब। पूरा मोहल्ला परिवार की तरह रहता था। एक दिन रोज की तरह सवेरा हुआ…मैं घर का दरवाजा खोल कर देहरी पर बैठ गयी…बताने की आवश्यकता नहीं कि गोलमटोल मैं! सुंदर-मुंदर गुड़िया सी लगती थी। जो निकलता मेरे नमस्ते से रूबरू होता । अचानक मेरी नजर नाली में गिरे चमकते सुर्ख लाल टमाटर पर पड़ी। सुबह के समय सब अपनी-अपनी जल्दी में होते थे। घर के जीने से लगी साफ-सुथरी नाली मुझे सजी-सॅंवरी खाने की थाली का रूप लग रही थी और उसमें चमकते उस सुर्ख लाल रंग के टमाटर को देखकर मेरे मुंह में पानी आ गया था। अर्जुन के लक्ष्य की भांति मेरा बालमन उस टमाटर को देखते ही उसे पाने के लिए कटिबद्ध हो गया। एक पल में मैं नीचे और .टमाटर मेरे मुंह में, पूरा का पूरा! पर उसी क्षण, एक तेज आवाज से मेरा मुॅंह खुला का खुला रह गया, मैं टमाटर को न गटक पा रही थी, न चबा पा रही थी। चोरी पकड़ी गई थी। गली के अंत में ‘मिस्टर दद्दा’(बुर्जुग) रहते थे, वो टहल के लौट रहे थे, उनकी पैनी नज़र मेरी इस हरक़त पर पड़ चुकी थी। उनका बेंत मेरे हाथ पर! “थूको …तुरंत थूको, हिम्मत कैसे हुई नाली में पड़ा टमाटर खाने की” कहते हुए उन्होने कस कर डाँट लगाई …मैंने देर न करते हुए एक झटके में टमाटर गटक लिया, साबुत! मिस्टर दद्दा आग-बबूला हो उठे “उमेश (पापा का नाम), कहाॅं हो तुम!” कहते हुए मेरा हाथ पकड़कर वो घर के अंदर पहुॅंच गये। “निर्मल! (मम्मी का नाम), इसको कड़ी सजा दो” कह कर उन्होने मम्मी को सब बताया। मम्मी सकते में ! मैं ढीठ, चौड़ी-चौड़ी, बड़ी-बड़ी ऑंखें चुराती रही, “क्या गलत किया जो टमाटर खा लिया ?” मैं मन ही मन सोचती जा रही थी, तब तक मिस्टर दद्दा मुझे घर के ऊपर वाले कमरे में ले गए और मुझे एक कमरे में बन्द कर दिया। अब मेरी घिघ्घी बंध गयी “थोड़ी देर में अक्ल ठिकाने लग जाएगी …यह दरवाजा कोई न खोलना” कह कर मिस्टर दद्दा खट-खट करते हुए जीने उतर कर चले गए …उनसे मेरे पापा, मम्मी सब डरते थे …पल भर के लिए घर में सन्नाटा छा गया …मैंने अपनी बुद्धि चातुर्य से काम लिया और “बुआ…बुआ” करके चिल्लाई। अस्सी वर्षीय बुआ विधवा थीं और मुझे बहुत ज्यादा मानती थीं |
बुआ मेरा दरवाजा पीटने लगीं और कहने लगीं “उमेश, खोलो इसका दरवाजा, छोटी सी बच्ची है, डर जाएगी” कह सुनकर उन्होने मुझे सकुशल बाहर निकलवा लिया। मैं बुआ के पैरों से चिपक कर खड़ी हो गई। घटना को इतने वर्ष बीत गए पर वो टमाटर जब भी याद आता है, मेरे मुॅंह का स्वाद बदल जाता है और मैं मुस्कराये बिना नहीं रह पाती।

स्वरचित
रश्मि लहर
लखनऊ, उत्तर प्रदेश

Language: Hindi
Tag: संस्मरण
1 Like · 177 Views
You may also like:
मुहब्बतनामा
shabina. Naaz
नेता बनि के आवे मच्छर
आकाश महेशपुरी
फूल तो सारे जहां को अच्छा लगा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
गणपति वंदना (कैसे तेरा करूँ विसर्जन)
Dr Archana Gupta
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मित्र मिलन
जगदीश लववंशी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
भाव अंजुरि (मैथिली गीत)
मनोज कर्ण
जन्म दिन का खास तोहफ़ा।
Taj Mohammad
✍️दूरियाँ वो भी सहता है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
धन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️✍️कश्मकश✍️✍️
'अशांत' शेखर
एक सुन्दरी है
Varun Singh Gautam
जिंदगी से यूं मलाल कैसा
Seema 'Tu hai na'
प्रवाह में रहो
Rashmi Sanjay
ये आंसू
Shekhar Chandra Mitra
*माँ यह ही अरदास (हिंदी गजल/दोहा गीतिका)*
Ravi Prakash
“ पहिल सार्वजनिक भाषण ”
DrLakshman Jha Parimal
बरसात और तुम
Sidhant Sharma
रास्ता
Anamika Singh
ज़िंदगी, ज़िंदगी ही होती है
Dr fauzia Naseem shad
पता नहीं तुम कौनसे जमाने की बात करते हो
Manoj Tanan
जीभ/जिह्वा
लक्ष्मी सिंह
दुर्योधन कब मिट पाया :भाग:41
AJAY AMITABH SUMAN
भरमा रहा है मुझको तेरे हुस्न का बादल।
सत्य कुमार प्रेमी
जर्जर विद्यालय भवन की पीड़ा
Rajesh Kumar Arjun
भक्तिरेव गरीयसी
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
माता-पिता
Saraswati Bajpai
मेरे 20 सर्वश्रेष्ठ दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मै भी हूं तन्हा, तुम भी हो तन्हा
Ram Krishan Rastogi
Loading...