Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Sep 2022 · 1 min read

मोहब्बत

मोहब्बत की चाह में हमने ठोकर बहुत बार खाई है,
उनसे बात करने के लिए हमने हिम्मत हर बार जुटाई है।

– श्रीयांश गुप्ता

Language: Hindi
Tag: शेर
2 Likes · 194 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीने की राह
जीने की राह
Madhavi Srivastava
कहानी
कहानी
कवि रमेशराज
मां नर्मदा प्रकटोत्सव
मां नर्मदा प्रकटोत्सव
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
छोटी सी दुनिया
छोटी सी दुनिया
shabina. Naaz
ये दुनिया है कि इससे, सत्य सुना जाता नहीं है
ये दुनिया है कि इससे, सत्य सुना जाता नहीं है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बंदर मामा
बंदर मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अभी गनीमत है
अभी गनीमत है
शेखर सिंह
राखी धागों का त्यौहार
राखी धागों का त्यौहार
Mukesh Kumar Sonkar
बाल कविता : बादल
बाल कविता : बादल
Rajesh Kumar Arjun
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
Priya princess panwar
"बस्तर के वनवासी"
Dr. Kishan tandon kranti
मुहब्बत मील का पत्थर नहीं जो छूट जायेगा।
मुहब्बत मील का पत्थर नहीं जो छूट जायेगा।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*जहॉं पर हारना तय था, वहॉं हम जीत जाते हैं (हिंदी गजल)*
*जहॉं पर हारना तय था, वहॉं हम जीत जाते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
surenderpal vaidya
छल
छल
गौरव बाबा
माँ
माँ
श्याम सिंह बिष्ट
हम नही रोते परिस्थिति का रोना
हम नही रोते परिस्थिति का रोना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
सत्य कुमार प्रेमी
बसंती बहार
बसंती बहार
Er. Sanjay Shrivastava
माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा
माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा
पूर्वार्थ
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
डॉ.सीमा अग्रवाल
सृष्टि की अभिदृष्टि कैसी?
सृष्टि की अभिदृष्टि कैसी?
AJAY AMITABH SUMAN
संगठग
संगठग
Sanjay ' शून्य'
हाँ, मैं तुमसे ----------- मगर ---------
हाँ, मैं तुमसे ----------- मगर ---------
gurudeenverma198
*
*"ममता"* पार्ट-3
Radhakishan R. Mundhra
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
जीवन की धूल ..
जीवन की धूल ..
Shubham Pandey (S P)
*बताओं जरा (मुक्तक)*
*बताओं जरा (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
एक सच
एक सच
Neeraj Agarwal
■ शुभ रंगोत्सव...
■ शुभ रंगोत्सव...
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...