Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 5, 2016 · 1 min read

शेर :– तड़फ़ मुहब्बत की जब ……….!!

तड़फ़ मुहब्बत की जब ,……[शेर]

तड़फ मुहब्बत् की जब ,दिल बेकरार करती हो !
चाहत लव्जों मे आने का इन्तजार करती हो !!

कदम अल्फाजों के गुमसुम से , उल्फत के सितारे हों !
दिल मे बेचैनी का आलम हो , सिले से लव तुम्हारे हो !!

सुलगती आग जब हर पल बदन को जलाती हो !
रोशनी चांद सी जब , तेरे दिल को लुभाती हो !!

उठे उलझन की होड , ख्यालों के सवालों मे !
बस एक चहरा नजर आये , अंधेरे मे उजालों मे !!

बबंडर इश्क का उठता , उसे एक आसरा चाहिये !
कैद कर ले कोई दिल मे , ऐसा कठघरा चाहिये !!

उठा तूफान इश्क का , डरना क्या जमाने से !
बेफिक्र हो इजहार कर , किसी ना किसी बहाने से !!

कर हौसला आफजाई , मुहब्बत हर वार नहीं होगी !
मेरा दावा है , सच्चे प्यार की कभी हार नहीं होगी !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

3 Comments · 372 Views
You may also like:
जिसको चुराया है उसने तुमसे
gurudeenverma198
ये चिड़िया
अनामिका सिंह
हंसगति छंद , विधान और विधाएं
Subhash Singhai
हर साल क्यों जलाए जाते हैं उत्तराखंड के जंगल ?
Deepak Kohli
जेष्ठ की दुपहरी
Ram Krishan Rastogi
$प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
पितृ नभो: भव:।
Taj Mohammad
जब मर्यादा टूटता है।
अनामिका सिंह
थोड़ी मेहनत और कर लो
Nitu Sah
वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता का दर्द
Nitu Sah
शहीद का पैगाम!
अनामिका सिंह
मुझे धोखेबाज न बनाना।
अनामिका सिंह
मैं द्रौपदी, मेरी कल्पना
अनामिका सिंह
काँटा और गुलाब
अनामिका सिंह
कमली हुई तेरे प्यार की
Swami Ganganiya
रसीला आम
Buddha Prakash
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
✍️जिद्द..!✍️
"अशांत" शेखर
ऐसे हैं मेरे पापा
Dr Meenu Poonia
तीन किताबें
Buddha Prakash
मुझको खुद मालूम नहीं
gurudeenverma198
मोहब्बत।
Taj Mohammad
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
दिल भटका मुसाफिर है।
Taj Mohammad
गीत - मुरझाने से क्यों घबराना
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
बेपरवाह बचपन है।
Taj Mohammad
श्री भूकन शरण आर्य
Ravi Prakash
बारहमासी समस्या
Aditya Prakash
तेरे रोने की आहट उसको भी सोने नहीं देती होगी
Krishan Singh
Loading...