Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

शेर -(तन्हा)- राना लिधौरी, टीकमगढ़

शेर
तन्हा

यूं तो राना भींड़ है हर शहर हर गांव में।

उसके आंखें फेरते ही मैं तो तन्हा हो गया।।

-राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
संपादक-‘आकांक्षा’पत्रिका
टीकमगढ़ (मप्र)

117 Views
You may also like:
हाइकु__ पिता
Manu Vashistha
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
एक बावली सी लड़की
Faza Saaz
बेजुबान
Dhirendra Panchal
खंडहर हुई यादें
VINOD KUMAR CHAUHAN
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
उड़ी पतंग
Buddha Prakash
“ অখনো মিথিলা কানি রহল ”
DrLakshman Jha Parimal
*कविवर रमेश कुमार जैन की ताजा कविता को सुनने का...
Ravi Prakash
उम्मीदों के परिन्दे
Alok Saxena
✍️स्टेचू✍️
"अशांत" शेखर
हम भी है आसमां।
Taj Mohammad
लाख मिन्नते मांगी ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
पाखंडी मानव
ओनिका सेतिया 'अनु '
शायरी संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
मेरे पापा जैसे कोई....... है न ख़ुदा
Nitu Sah
कलियों को फूल बनते देखा है।
Taj Mohammad
महेनतकश इंसान हैं ... नहीं कोई मज़दूर....
Dr.Alpa Amin
क्या तुम आजादी के नाम से, कुछ भी कर सकते...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खफा है जिन्दगी
Anamika Singh
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नजरों की तलाश
Dr.Alpa Amin
वोह जब जाती है .
ओनिका सेतिया 'अनु '
गुफ़्तगू का ढंग आना चाहिए
अश्क चिरैयाकोटी
कुएं का पानी की कहानी | Water In The Well...
harpreet.kaur19171
बरखा रानी तू कयामत है ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
नदी सदृश जीवन
Manisha Manjari
गीत
Kanchan Khanna
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
Loading...