Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

शून्य से शून्य तक

मृत्यु की वास्तविकता के धरातल पर ।
शून्य से शून्य तक का यथार्थ है जीवन ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

4 Likes · 20 Views
You may also like:
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
गीत
शेख़ जाफ़र खान
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Deepali Kalra
मेरे साथी!
Anamika Singh
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
मेरे पापा
Anamika Singh
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...