Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Aug 2022 · 1 min read

शुरू खत्म

कुछ शुरू हुआ क्योंकि,
कुछ खत्म होने वाला था।
या
कुछ खत्म हुआ क्योंकि,
कुछ शुरू होने वाला था।

शुरू और खत्म की इन उलझनों के बीच
तमाम चीजे हुई ,
जिनमे कुछ को होना चाहिए था,
और कुछ को शायद नहीं ।

Language: Hindi
105 Views
You may also like:
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आधा इंसान
GOVIND UIKEY
अकेलेपन ने सिखा दिया
Kaur Surinder
सपनों की तुम बात करो
कवि दीपक बवेजा
आओ और सराहा जाये
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
हो गए हम बे सफ़र
Shivkumar Bilagrami
मजदूर
Anamika Singh
अगर यह मुलाकात ऐसी ना होती
gurudeenverma198
जब गुरु छोड़ के जाते हैं
Aditya Raj
✍️उम्मीदों की गहरी तड़प
'अशांत' शेखर
फस्ट किस ऑफ माई लाइफ
Gouri tiwari
*मुकदमा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आईने में अगर
Dr fauzia Naseem shad
ख़ुलूसो - अम्न के साए में काम करती हूँ
Dr Archana Gupta
मेरे माता-पिता
Shyam Sundar Subramanian
व्यंग्य- प्रदूषण वाली दीवाली
जयति जैन 'नूतन'
'रावण'
Godambari Negi
पिता की अस्थिया
Umender kumar
मुहब्बत और इबादत
shabina. Naaz
गीतायाः पाठ:।
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पागल बना दे
Harshvardhan "आवारा"
Writing Challenge- ईर्ष्या (Envy)
Sahityapedia
नई दिल्ली
Dr. Girish Chandra Agarwal
आत्म निर्णय
Shekhar Chandra Mitra
सोचो जो बेटी ना होती
लक्ष्मी सिंह
बेवफ़ा कह रहे हैं।
Taj Mohammad
क्या करूँगा उड़ कर
सूर्यकांत द्विवेदी
■ समयोचित विचार बिंदु...
*Author प्रणय प्रभात*
इश्क का तुमसे जब सिलसिला हो गया।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
!! मुसाफिर !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
Loading...