Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

शीर्षक -मां का आंचल

शीर्षक -मां का आंचल
——————-
विधा -कविता
———-
मां तेरे आंचल में हमने,सारी खुशियां पाईं।
मां होती वृक्ष हरा-भरा, जिसमें हमने छांव पाई।।
मां होती प्रथम पाठशाला, जिससे शिक्षा हमने पाई।
मां ही होती गुरु हमारी, जिसने ज्ञान की ज्योति जगाई।
जीवन के पथ में हमको, चलना सिखाती है मां।
कष्टों में तुम न घबराना,ऐसी सीख देती है मां।।
जीवन के सुख-दुख में, सदा साथ देती है मां।।
पिता आसमान होते, तो धरती होती
है मां।।
मां के आंचल में , सुकून बहुत मिलता है।
मां तेरे चरणों में हमको, चारों धाम दिखता है!!

मातृ दिवस की हार्दिक
शुभकामनाएं।
मां तुझे सलाम!!

सुषमा सिंह*उर्मि,,
कानपुर

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 222 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from Sushma Singh

You may also like:
आसमानों को छूने की चाह में निकले थे
आसमानों को छूने की चाह में निकले थे
कवि दीपक बवेजा
ठहरी–ठहरी मेरी सांसों को
ठहरी–ठहरी मेरी सांसों को
Anju ( Ojhal )
सफलता वही है जो निरंतर एवं गुणवत्तापूर्ण हो।
सफलता वही है जो निरंतर एवं गुणवत्तापूर्ण हो।
dks.lhp
#प्रतिनिधि_गीत_पंक्तियों के साथ हम दो वाणी-पुत्र
#प्रतिनिधि_गीत_पंक्तियों के साथ हम दो वाणी-पुत्र
*Author प्रणय प्रभात*
#करना है, मतदान          हमको#
#करना है, मतदान हमको#
Dushyant Kumar
पेड़ लगाए पास में, धरा बनाए खास
पेड़ लगाए पास में, धरा बनाए खास
जगदीश लववंशी
घोंसले
घोंसले
Dr P K Shukla
Agar padhne wala kabil ho ,
Agar padhne wala kabil ho ,
Sakshi Tripathi
स्वागत है नवजात भतीजे
स्वागत है नवजात भतीजे
Pooja srijan
शेष कुछ
शेष कुछ
Dr.Priya Soni Khare
फूलों की तरह मुस्कराते रहिए जनाब
फूलों की तरह मुस्कराते रहिए जनाब
shabina. Naaz
स्मृतियों की चिन्दियाँ
स्मृतियों की चिन्दियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बोलो जय जय गणतंत्र दिवस
बोलो जय जय गणतंत्र दिवस
gurudeenverma198
विवाद और मतभेद
विवाद और मतभेद
Shyam Sundar Subramanian
विनाश की जड़ 'क्रोध' ।
विनाश की जड़ 'क्रोध' ।
Buddha Prakash
मेरे होते हुए जब गैर से वो बात करती हैं।
मेरे होते हुए जब गैर से वो बात करती हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
मुस्कानों की परिभाषाएँ
मुस्कानों की परिभाषाएँ
Shyam Tiwari
जिन्दगी के रंग
जिन्दगी के रंग
Santosh Shrivastava
*दाबे बैठे देश का, रुपया धन्ना सेठ( कुंडलिया )*
*दाबे बैठे देश का, रुपया धन्ना सेठ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
Vishal babu (vishu)
एक बार बोल क्यों नहीं
एक बार बोल क्यों नहीं
goutam shaw
पर्यावरण प्रतिभाग
पर्यावरण प्रतिभाग
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
💐प्रेम कौतुक-322💐
💐प्रेम कौतुक-322💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुक्ति का दे दो दान
मुक्ति का दे दो दान
Samar babu
रामनवमी
रामनवमी
Ram Krishan Rastogi
मित्रता
मित्रता
Mahendra singh kiroula
"अश्क भरे नयना"
Ekta chitrangini
शिकवा गिला शिकायतें
शिकवा गिला शिकायतें
Dr fauzia Naseem shad
सावधानी हटी दुर्घटना घटी
सावधानी हटी दुर्घटना घटी
Sanjay
दोहावली
दोहावली
Prakash Chandra
Loading...