Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 3, 2021 · 1 min read

शीर्षक-कमीने यार याद आते हैं

शीर्षक-कमीने यार याद आते हैं

मेरे सारे दोस्त यो कमीने हुआ करते थे
फिर भी न जाने क्यों हम साथ जीया करते थे
हर राज को छिपाकर दफन किया करते थे
पर समय आने पर उसको भुनाया करते थे
हर सुख दुःख में, साथ साथ जिया करते थे।
रिज़ल्ट आने पर घर में छिपाया करते थे
क्लास में मार एक को न पड़े तो झूठ बोला करते थे
कभी एक दूसरे से रूठ भी जाया करते थे।
ये बात आज बीटीसी लगती हैं पर
आज भी दिल के करीब लगतो हैं
जिनके बिना एक दिन भी गुजर नही थी कभी
जीवन की आपाधापी में उनके बिना ही बीत रही हैं
ये बात बस बीते समय की हो बेशक
आज भी छुप छुप के मिलवाना अपने अजीज से
ऒर कमीनो का पूरा साथ होता था मिलाने में
तब हम अपनी दोस्ती पर कितना इतराया करते थे।
आओ आज मिले और बीती बाते याद करे
अपने जीवनसाथी के सामने सबका पर्दाफाश करे
आज एक बात फिर से मुस्कुराए मिलकर
क्या पता कल जिंदगी हो न हो।
आओ कमीनो मिल बैठे मचाये धमाल
करे फिर से थकी सी जिंदगी में कमाल
ओर बनाये इस वक़्त को भी बेमिशाल
आओ मिल बैठे कमीनो मचाये धमाल।
डॉ मंजु सैनी
गाजियाबाद
घोषणा:स्वरचित रचना

1 Like · 114 Views
You may also like:
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
आरजू
Kanchan Khanna
✍️✍️जिंदगी✍️✍️
'अशांत' शेखर
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
मनुज शरीरों में भी वंदा, पशुवत जीवन जीता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बुंदेली दोहा-डबला
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कैसा इम्तिहान है।
Taj Mohammad
✍️घर घर तिरंगा..!✍️
'अशांत' शेखर
🌺प्रेम की राह पर-52🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हाय! सुशीला
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*प्रिय सावन में मतवाली (गीतिका)*
Ravi Prakash
जूते जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
औकात में रहिए
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
✍️✍️धूल✍️✍️
'अशांत' शेखर
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हें देखा
Anamika Singh
🌺प्रेम की राह पर-54🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पथ जीवन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पग पग में विश्वास
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हम हर गम छुपा लेते हैं।
Taj Mohammad
लाइलाज़
Seema 'Tu haina'
मेरी ये जां।
Taj Mohammad
बेपनाह रूहे मोहब्बत।
Taj Mohammad
एक हरे भरे गुलशन का सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
बुद्ध पूर्णिमा पर मेरे मन के उदगार
Ram Krishan Rastogi
✍️इश्तिराक✍️
'अशांत' शेखर
✍️रुसवाई✍️
'अशांत' शेखर
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
चूँ-चूँ चूँ-चूँ आयी चिड़िया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कभी - कभी .........
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
Loading...