Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Sep 23, 2022 · 1 min read

शीर्षक:कमाल लेखनी का

शीर्षक:कमाल लेखनी का

मेरी लेखनी के रूप देखो कैसे कैसे सजते हैं
कवि के हाथ आये तो शब्दरूप ले बयां होती हैं
उसके भीतर के जज्बात कागज पर उकेर देती हैं
हूबहू जो मैं कहना चाहती लेखिका लिख देती हैं

इतिहास को पटल पर रख सामने सभी के
अतीत के पन्ने पलटती स्वयं का रूप दिखाती हैं
वैसे ही जैसे काल का ग्रास बना हो समय
उसी रूप में समक्ष प्रस्तुत करती नजर आती है

अफसरों के जेबों में आ जाये तो
लिखती है कमाल वही जो चाहे सिर्फ वही
गलत या सही जैसे उसको दी जाती है धार
अफसर की कलम देखो कैसे कैसे चलती हैं

प्रेमी से हाथ आये तो उसका इश्क लिखती है
इश्क़ के प्रेमपत्रों को देती जान शब्दो मे प्राण
करती है प्रेमिका को लालायित प्रेम जाल के लिए
युगल को देती सम्बल पत्र रूप में शब्दों के द्वारा

देश के दीवानों के हाथ आये तो लिख जाती हैं
वीरो की शहादत अपनी नुकीली नोंक की धार से
कह जाती हैं वीरो जी गाथा अमर करती व्यथा
कह देती हैं इंकलाब माँ भारती को प्यार,बलिदान

शिक्षक के हाथ आये तो बनाती भविष्य देश का
नोनिहालों को संवारती देश की खातिर
लिख देती है भविष्य छात्र का शिक्षक रूप में
देखो मेरी कलम करती हैं कमाल हर क्षेत्र में
डॉ मंजु सैनी
गाज़ियाबाद

1 Like · 15 Views
You may also like:
अनामिका के विचार
Anamika Singh
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
पिता
Keshi Gupta
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इश्क
Anamika Singh
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
Loading...