Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Dec 2023 · 1 min read

शीत …..

दोहा त्रयी. . . .

ओढ़ चदरिया ओस की, शीत मचाये शोर ।
स्वर्ण सुन्दरी सी लगे, भोली -भाली भोर ।।

दर्शन दुर्लभ हो गए, कहीं गई रे धूप ।
घनी धुंध ने शीत में, छीना इसका रूप ।।

लगे तीर सी शीत में, शीतल तीव्र बयार ।
इसके आगे तो गए, शाल रजाई हार ।।

सुशील सरना / 31-12-23

72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मां आई
मां आई
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
*कुंडलिया छंद*
*कुंडलिया छंद*
आर.एस. 'प्रीतम'
Kitna mushkil hota hai jab safar me koi sath nhi hota.
Kitna mushkil hota hai jab safar me koi sath nhi hota.
Sakshi Tripathi
आ अब लौट चले
आ अब लौट चले
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
जुगनू
जुगनू
Gurdeep Saggu
अवसरवादी, झूठे, मक्कार, मतलबी, बेईमान और चुगलखोर मित्र से अच
अवसरवादी, झूठे, मक्कार, मतलबी, बेईमान और चुगलखोर मित्र से अच
विमला महरिया मौज
मुफ्त राशन के नाम पर गरीबी छिपा रहे
मुफ्त राशन के नाम पर गरीबी छिपा रहे
VINOD CHAUHAN
याद रखना
याद रखना
Dr fauzia Naseem shad
दिल से मुझको सदा दीजिए।
दिल से मुझको सदा दीजिए।
सत्य कुमार प्रेमी
कद्रदान
कद्रदान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐प्रेम कौतुक-374💐
💐प्रेम कौतुक-374💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"प्रेम और क्रोध"
Dr. Kishan tandon kranti
एक अकेला
एक अकेला
Punam Pande
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मगरूर क्यों हैं
मगरूर क्यों हैं
Mamta Rani
2824. *पूर्णिका*
2824. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इन पैरो तले गुजरता रहा वो रास्ता आहिस्ता आहिस्ता
इन पैरो तले गुजरता रहा वो रास्ता आहिस्ता आहिस्ता
'अशांत' शेखर
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
Yogini kajol Pathak
राजस्थान में का बा
राजस्थान में का बा
gurudeenverma198
रुपयों लदा पेड़ जो होता ,
रुपयों लदा पेड़ जो होता ,
Vedha Singh
लट्टू हैं अंग्रेज पर, भाती गोरी मेम (कुंडलिया)
लट्टू हैं अंग्रेज पर, भाती गोरी मेम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
अंत ना अनंत हैं
अंत ना अनंत हैं
TARAN VERMA
सीनाजोरी (व्यंग्य)
सीनाजोरी (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
National Energy Conservation Day
National Energy Conservation Day
Tushar Jagawat
भूल गए हम वो दिन , खुशियाँ साथ मानते थे !
भूल गए हम वो दिन , खुशियाँ साथ मानते थे !
DrLakshman Jha Parimal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
आज आप जिस किसी से पूछो कि आप कैसे हो? और क्या चल रहा है ज़िं
आज आप जिस किसी से पूछो कि आप कैसे हो? और क्या चल रहा है ज़िं
पूर्वार्थ
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
हमारी निशानी मिटा कर तुम नई कहानी बुन लेना,
हमारी निशानी मिटा कर तुम नई कहानी बुन लेना,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Loading...