Jan 17, 2022 · 1 min read

शीत

शीत यौवन की डग चला है
सर्द हवा का प्रलोभन बढ़ा है

इधर उधर वृद्ध जनों को चूमे
कैद कर घर में अपनों को भूले

हीटर , अलाव की याद दिलाती
सर्दी दूर कर गर्मी को है जगाती

हर कोई रजाई की शरण में है
सर्द कम हो बस यही रटन है

सूर्यदेव हो गये है अब नदारद
भास हमारा रहा नहीं शायद

एक झलक पाने को ताके नभ
पर न दिखाई न दे सूर्य देव अब

77 Likes · 1 Comment · 314 Views
You may also like:
प्यार
Satish Arya 6800
अब सुप्त पड़ी मन की मुरली, यह जीवन मध्य फँसा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Motivation ! Motivation ! Motivation !
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चल अकेला
Vikas Sharma'Shivaaya'
हे विधाता शरण तेरी
Saraswati Bajpai
दिल,एक छोटी माँ..!
मनोज कर्ण
बेजुबान
Dhirendra Panchal
पहचान लेना तुम।
Taj Mohammad
बदलती परम्परा
Anamika Singh
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अपने मन की मान
जगदीश लववंशी
यादों की साजिशें
Manisha Manjari
💐प्रेम की राह पर-32💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सफर
Anamika Singh
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
सबको हार्दिक शुभकामनाएं !
Prabhudayal Raniwal
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्रणाम नमस्ते अभिवादन....
Dr. Alpa H.
कड़वा सच
Rakesh Pathak Kathara
【10】 ** खिलौने बच्चों का संसार **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता
Rajiv Vishal
*मृदुभाषी श्री ऊदल सिंह जी : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
उम्मीदों के परिन्दे
Alok Saxena
हम गीत ख़ुशी के गाएंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सच का सामना
Shyam Sundar Subramanian
शब्द बिन, नि:शब्द होते,दिख रहे, संबंध जग में।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बहते अश्कों से पूंछो।
Taj Mohammad
मिटटी
Vikas Sharma'Shivaaya'
हिन्दुस्तान की पहचान(मुक्तक)
Prabhudayal Raniwal
Loading...