शिव स्तुति

शिव स्तुति (चंचरी छंद) २१२२ २१२२ २१२२ २१२

अवगुणों का आप ही, निष्पक्ष हो करते दमन।
हे विधाता! नीलकण्ठी!, मैं करूं तुमको नमन।।

निर्गुणी निर्कल्प होकर, आप ही निर्वाण हो।
ब्रह्म व्यापक ज्ञान वाले, इस जगत के प्राण हो।।
व्याप्त हो तुम चर-अचर में, जन्म तुम से ओम् का।
आपका आकार जैसे, भव्य व्यापक व्योम का।।

अभ्र से उतरी जटा में, गंग करने आचमन।
हे विधाता! नीलकण्ठी!, मैं करूं तुमको नमन।।

जन्म दाता ईश हो संसार के अवसान हो।
वास करते हिम गिरी पर, तुम गुणों के खान हो।।
शब्द को नि:शब्द करते, काल का तुम काल हो।
निरपराधी पर दयामय, दुष्ट पर विकराल हो।।

काल भी है कांपता जब, खोलते तीजा नयन।
हे विधाता! नीलकण्ठी!, मैं करूं तुमको नमन।।

बर्फ सम शीतल व अद्भुत, रूप है प्रभु आपका।
कर गहन चिंतन हमेशा, नाश करते ताप का।।
गात सुंदर है सुशोभित, चन्द्र सिर है धारते।
हे दयानिधि! दीन रक्षक, भक्तजन को तारते।।

व्याल धारी हे! पिनाकी, कण्ठ में विष का वमन।
हे विधाता! नीलकण्ठी!, मैं करूं तुमको नमन।।

हे अखण्डा!, हे अजन्मा!, हो भयंकर नाथ तुम।
कर डमरु अरु शूल भगवन, भाविनी के साथ तुम।।
श्रेष्ठ तेजोमय स्वरूपा, मूल से तुम हो परे।
दुष्टता का नाश करते, भय भी तुम से है डरे।।

चंद्रघण्टा को प्रिये तुम, प्रीति के हो प्रस्फुटन।
हे विधाता! नीलकण्ठी!, मैं करूं तुमको नमन।।

काल बंधन से परे हो, आदि भी तुम अन्त भी।
हर्ष से संचित सदा मन, धर्म रक्षक सन्त भी।।
पंचशर नाशी कपर्दी, हे! मलंगी आत्मा।
भक्त का जो त्राण करते, तुम वही परमात्मा।।

काल हो विकराल हो तुम, देवता प्रभु हो शमन।
हे विधाता! नीलकण्ठे, मैं करूं तुमको नमन।।

मैं न जानूं पाठ पूजा, है न सात्विक आचरण।
हो कृपा प्रभु आपकी! बस ध्यान हो पावन चरण।।
मूढ़ मानव मन निराशा, के गहन तम से घिरा।
थाम लो पतवार जीवन, दास चरणों में गिरा।।

मैं उपासक नाथ तेरा, हो सदा ही शुद्ध मन।
हे विधाता! नीलकण्ठी!, मैं करूं तुमको नमन।।

✍️पं.संजीव शुक्ल ‘सचिन’

3 Likes · 2 Comments · 577 Views
You may also like:
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
चलो जिन्दगी को फिर से।
Taj Mohammad
💐💐💐न पूछो हाल मेरा तुम,मेरा दिल ही दुखाओगे💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रामे क बरखा ह रामे क छाता
Dhirendra Panchal
आप तो आप ही हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फरिश्ता से
Dr.sima
सुंदर सृष्टि है पिता।
Taj Mohammad
**यादों की बारिशने रुला दिया **
Dr. Alpa H.
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आख़िरी मुलाक़ात ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
स्वप्न-साकार
Prabhudayal Raniwal
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
बगिया जोखीराम में श्री चंद्र सतगुरु की आरती
Ravi Prakash
मेरे दिल के करीब,आओगे कब तुम ?
Ram Krishan Rastogi
नन्हा बीज
मनोज कर्ण
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
पुरी के समुद्र तट पर (1)
Shailendra Aseem
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
Buddha Prakash
सच में ईश्वर लगते पिता हमारें।।
Taj Mohammad
=*बुराई का अन्त*=
Prabhudayal Raniwal
कविता क्या है ?
Ram Krishan Rastogi
बोलती आँखे...
मनोज कर्ण
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
Loading...