शिक्षा

चैन से कैसे सोऊँ मैं, मुझे शिक्षा की अलख जगानी है,
मेरे देश में जड़ जमा चुकी हर बुराई दूर मैंने भगानी है।

शिक्षा से ही बदलाव संभव है, शिक्षा ही बदलेगी दिशा,
शिक्षा की अखण्ड ज्योति मुझे अब घर घर जगानी है।

शिक्षा रूपी हथियार खत्म करेगा गरीबी, भुखमरी को,
प्रत्येक भारत वासी को ये बात अब मुझे समझानी है।

बंदूक से नहीं हो सकता है समाधान समस्याओं का,
समझा कर भटके हुओं को कलम अब पकड़वानी है।

भ्रष्टाचार और रिश्वतखोरी को शिक्षा मिटा सकती है,
खत्म कर सब बुराइयों को खुशहाली अब फैलानी है।

अज्ञानता केवल शिक्षा के उजाले से ही दूर होगी,
असमानता की खाई शिक्षा से अब मुझे मिटानी है।

जब शिक्षित होगा संपूर्ण भारत बात ही अलग होगी,
सुनहरी तस्वीर सपनों के भारत की मुझे बनानी है।

गुरु श्री रणबीर सिंह पर ली मैंने शिक्षा कविताई की,
शिक्षा से सुलक्षणा नेताओं की अक्ल ठिकाने लानी है।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

2 Comments · 210 Views
You may also like:
ग़ज़ल
kamal purohit
नारी है सम्मान।
Taj Mohammad
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
पुरी के समुद्र तट पर (1)
Shailendra Aseem
बुलबुला
मनोज शर्मा
शहीद का पैगाम!
Anamika Singh
आध्यात्मिक गंगा स्नान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
आकर मेरे ख्वाबों में, पर वे कहते कुछ नहीं
Ram Krishan Rastogi
"साहित्यकार भी गुमनाम होता है"
Ajit Kumar "Karn"
वर्तमान परिवेश और बच्चों का भविष्य
Mahender Singh Hans
नई लीक....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तलाश
Dr. Rajeev Jain
इश्क़―की―आग
N.ksahu0007@writer
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
** बेटी की बिदाई का दर्द **
Dr. Alpa H.
**यादों की बारिशने रुला दिया **
Dr. Alpa H.
जो मौका रहनुमाई का मिला है
Anis Shah
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
एक आवाज़ पर्यावरण की
Shriyansh Gupta
आंचल में मां के जिंदगी महफूज होती है
VINOD KUMAR CHAUHAN
अक्षय तृतीया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
जेब में सरकार लिए फिरते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरे हाथो में सदा... तेरा हाथ हो..
Dr. Alpa H.
कितनी सुंदरता पहाड़ो में हैं भरी.....
Dr. Alpa H.
Born again with love...
Abhineet Mittal
"शादी की वर्षगांठ"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार "कर्ण"
Loading...