Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

शिक्षा देना ध्येय हमारा

नहीं मान-सम्मान चाहता, शिक्षित हो हर वर्ग हमारा।
अभावों के पथ पर चलकर, शिक्षा देना ध्येय हमारा।।
दीप समान जलाया खुद को,
अंधियारों में परिजन पाए।
ज्योति जला शिक्षा की हमने,
चहुदिश ज्ञानपुंज फैलाए।।
दिव्य ज्ञान भंडार लुटाकर, विद्या देना कर्म हमारा।
सुख सुविधा का मोह त्याग कर,विद्यादान है धर्म हमारा।।
शिक्षा,कला,ज्ञान बाँटकर,
समरसता का भाव जगायें।
भेदभाव से ऊपर उठकर,
जीने की हम कला सिखायें।।
नित्य नूतन अभिनव प्रयोग से, बुद्धिमान हो छात्र हमारा।
अखिल विश्व के विश्व गुरु को,’कल्प’ गुरु बनाना ध्येय हमारा।।

1 Like · 2 Comments · 338 Views
You may also like:
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Meenakshi Nagar
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
Loading...