Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

शिक्षक

शिक्षक दिवस पर …!
???????
*तुम ही कृष्णा तुम ही राम *
******************
छैनी और हथौड़ी लेकर ,
मूर्तिकार ज्यों मूर्ति उभारे ।
शिष्यों के कल को शिक्षक ही,
अपने हाथों गढ़े सँवारे।।
तुमको बारम्बार प्रणाम ।
तुम ही कृष्णा तुम ही राम ।।
*
हम गीली मिट्टी के लौंदे ,
जैसे चाहो ढल जाते हैं ।
नहीं मिले संरक्षण तो फिर ,
ढेले जैसे गल जाते हैं ।।
पाषाणों के हम हैं टुकड़े ,
हम में छिपी हुई है मूरत ।
थोड़ा कोई काट-छाँट दे,
दिख जाती है असली सूरत ।।
ठोक पीट कर काट-छाँट कर ,
तुमने ही तो रूप निखारे ।
शिष्यों के कल को शिक्षक ही ,
अपने हाथों गढ़े सँवारे ।।
तुमको बारम्बार प्रणाम ।
तुम ही कृष्णा तुम ही राम ।।
*
तुमने ही शिक्षा देकर के ,
उर में दीपक ज्ञान जलाया ।
तुमने ही सत पथ पर हमको ,
हे गुरुवर ! चलना सिखलाया ।।
मोल ज्ञान का नहीं चुकेगा,
जीवन भर के ऋणी हो गये ।
तुमने सिर पर हाथ रखा तो ,
मन के दूषित भाव खो गये ।।
करें वंदना शीश झुका कर,
हम सब प्यारे शिष्य तुम्हारे ।
शिष्यों के कल को शिक्षक ही ,
अपने हाथों गढ़े सँवारे ।।
तुमको बारम्बार प्रणाम ।
तुम ही कृष्णा तुम ही राम ।।
*
जिसने गुरु की आज्ञा मानी ,
उसका ही जीवन सँवरा है ।
जीवन की गलियाँ टेढ़ी हैं ,
पथ भी इसका अति सँकरा है ।।
बड़े भाग्य शाली हैं हम सब ,
कृपा आपकी हमने पाई ।
ब्रह्मा विष्णु महेश आप हैं,
रहें आप गुरु सदा सहाई।।
कभी आपने डाँटा भी तो,
कभी प्रेम से सभी दुलारे ।
शिष्यों के कल को शिक्षक ही ,
अपने हाथों गढ़े सँवारे ।।
तुमको बारम्बार प्रणाम ।
तुम ही कृष्णा तुम ही राम ।।

महेश जैन ‘ज्योति’,
मथुरा ।
???

135 Views
You may also like:
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
मेरे पापा
Anamika Singh
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
यादें
kausikigupta315
महँगाई
आकाश महेशपुरी
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
Loading...