Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 4, 2017 · 1 min read

शिक्षक

है शिक्षक ही जो दीपक तरह दिन रात जलता है

मुसल्सल ग़ज़ल
है शिक्षक ही जो दीपक की तरह दिन रात जलता है।
न जाने कितने सीनों के अँधेरों को निगलता है।।

तराशे है हुनर की ठोकरों से एक शिल्पी सा।
तभी बेडौल सा पत्थर हसीं मूरत में ढलता है।।

दिखे ग़ुस्ताख़ियों पर सख़्त पत्थर सा हमेशा ही।
वही हो नर्म लहजा मोम के जैसा पिघलता है।।

कहें सब दौड़ होती एक मुल्ला की तो मस्जिद तक।
तो इसका वक़्त भी स्कूल और घर में निकलता है।।

अगर है गोद में सृजन प्रलय भी पलता सीने में।
अगर आ जाये ज़िद पर तख्तों ताजों को बदलता है।।

“अनीस ” अब वक़्त है किसको भला कोई ये क्यों सोचे।
कि महंगाई में कैसे उसका ये परिवार चलता है।।
– – – – – – – -अनीस शाह

250 Views
You may also like:
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"चरित्र और चाय"
मनोज कर्ण
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
बोझ
आकांक्षा राय
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
माँ
आकाश महेशपुरी
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Saraswati Bajpai
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
बंदर भैया
Buddha Prakash
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
Nurse An Angel
Buddha Prakash
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पल
sangeeta beniwal
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
Loading...