Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Sep 2023 · 1 min read

शिक्षक दिवस पर गुरुवृंद जनों को समर्पित

Happy Teacher’s Day 🪴💐💐🪴
शिक्षक दिवस पर सह्रदय अशेष हार्दिक असीम बधाई एवं शुभ कामनाएँ (आप सभी गुरुवृंद जनों के श्रीचरणों में सादर समर्पित भाव से कोटी – कोटी प्रणाम एवं चरणस्पर्श के साथ सह्रदय आभार प्रकट करते हैं।🙏

129 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
Shashi Dhar Kumar
प्रणय 9
प्रणय 9
Ankita Patel
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
Ram Krishan Rastogi
ज़िंदगी तेरा हक़
ज़िंदगी तेरा हक़
Dr fauzia Naseem shad
आसमां में चांद अकेला है सितारों के बीच
आसमां में चांद अकेला है सितारों के बीच
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
लौटना मुश्किल होता है
लौटना मुश्किल होता है
Saraswati Bajpai
मेरी औकात
मेरी औकात
साहित्य गौरव
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
Buddha Prakash
"पते की बात"
Dr. Kishan tandon kranti
करके ये वादे मुकर जायेंगे
करके ये वादे मुकर जायेंगे
Gouri tiwari
कोई आयत सुनाओ सब्र की क़ुरान से,
कोई आयत सुनाओ सब्र की क़ुरान से,
Vishal babu (vishu)
*नि:स्वार्थ विद्यालय सृजित जो कर गए उनको नमन (गीत)*
*नि:स्वार्थ विद्यालय सृजित जो कर गए उनको नमन (गीत)*
Ravi Prakash
कर्म से कर्म परिभाषित
कर्म से कर्म परिभाषित
Neerja Sharma
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
shabina. Naaz
बाबू
बाबू
Ajay Mishra
आश पराई छोड़ दो,
आश पराई छोड़ दो,
Satish Srijan
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
Kanchan Khanna
कहे तो क्या कहे कबीर
कहे तो क्या कहे कबीर
Shekhar Chandra Mitra
वक्त
वक्त
Madhavi Srivastava
पहले की अपेक्षा साहित्य और आविष्कार दोनों में गिरावट आई है।इ
पहले की अपेक्षा साहित्य और आविष्कार दोनों में गिरावट आई है।इ
Rj Anand Prajapati
#कटाक्ष
#कटाक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
भीष्म के उत्तरायण
भीष्म के उत्तरायण
Shaily
"स्कूल चलो अभियान"
Dushyant Kumar
कुंंडलिया-छंद:
कुंंडलिया-छंद:
जगदीश शर्मा सहज
लंगोटिया यारी
लंगोटिया यारी
Sandeep Pande
कभी- कभी
कभी- कभी
Harish Chandra Pande
माटी कहे पुकार
माटी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नदी का किनारा ।
नदी का किनारा ।
Kuldeep mishra (KD)
वक्त मिलता नही,निकलना पड़ता है,वक्त देने के लिए।
वक्त मिलता नही,निकलना पड़ता है,वक्त देने के लिए।
पूर्वार्थ
Loading...