Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 5, 2017 · 1 min read

शिक्षक दिवस पर कुछ विधाता छंद पर मुक्तक

1
किताबी ज्ञान ही केवल, नहीं शिक्षक सिखाता है
कमी अच्छाई बतलाकर हमें खुद से मिलाता है
भटकने वो नहीं देता कभी भी लक्ष्य से हमको
हमारा मार्गदर्शक बन ,सही राहें दिखाता है

2
बने इंजीनियर डॉक्टर , ही आरक्षण यहाँ पाकर
बने शिक्षक यहां भी हैं बहुत कम अंकों’ को लाकर
बताओ ज्ञान ही जिनका यहां पर खुद अधूरा है
सिखायेंगे वही कैसे ये पूछे हम कहाँ जाकर

3
ये माना हमने गूगल जी , सभी को ज्ञान देते हैं
इन्हें कुछ लोग शिक्षक से , ज्यादा मान देते हैं
मगर ये सत्य है हर काम गूगल कर नहीं सकता
उचित अनुचित की’ शिक्षक ही, हमें पहचान देते हैं

4
जगत में ज्ञान के दीपक , सदा शिक्षक जलाते हैं
अँधेरों में उजालों के हमें सपने दिखाते हैं
तभी संसार मे स्थान गुरुओं का बड़ा ऊंचा
हमें ये रास्ता गोविंद ,से’ मिलने का बताते हैं

5
बहुत ढोंगी यहाँ बाबा, न इनके झाँसे में आना
गुरु इनको बनाकर के ,न सेवा में ही लग जाना
ये ‘ मुंह से राम जपते रास्ते पर पाप के इनके
अगर तुम फँस गये इक बार मुश्किल है निकल पाना

6
हमें माँ पाठ दुनियादारी का पढ़ना सिखाती है
पिता की सीख मुश्किल से हमें बचना सिखाती है
जलाते ज्ञान के दीपक गुरू दिल मे हमारे हैं
इन्ही की रोशनी जग में हमें चलना सिखाती है

डॉ अर्चना गुप्ता
4-9-2017

1 Like · 863 Views
You may also like:
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
गीत
शेख़ जाफ़र खान
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
अधुरा सपना
Anamika Singh
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
दहेज़
आकाश महेशपुरी
मेरी लेखनी
Anamika Singh
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
देश के नौजवानों
Anamika Singh
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
If we could be together again...
Abhineet Mittal
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
Little sister
Buddha Prakash
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...