Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

शारीरिक भाषा (बाॅडी लेंग्वेज)

शारीरिक भाषा (बाॅडी लेंग्वेज)

‘भाषा’ अर्थात् वह प्रक्रिया जिससे हम एक दूसरे से अपनी बातों का आदान-प्रदान करते हैं । भाषाएँ कई प्रकार की होती है, ये हम सब भली भांति जानते हैं । जैसे राष्ट्रीय भाषा, क्षेत्रीय भाषा, मातृ भाषा, विदेशी भाषा आदि, ये ऐसी भाषाएँ हैं, जिसे हम शब्दों से प्रकट करते हैं और आम बोलचाल में प्रयोग करते हैं ।
किन्तु कुछ भाषाएँ मूक होती है, जो शब्दों में नहीं कही जाती है । जैसे आँखों की भाषा, शारीरिक हाव-भाव की भाषा जिसे लोग बाॅडी लेंग्वेज कहते हैं ।
आँखों की भाषा को ईशारा कहना पूरी तरह से सही नहीं है, क्योंकि बिना ईशारे के भी आंखों से खुशी, दर्द, उदासी, आश्चर्य, भय आदि भाव को पढ़ा जा सकता है । इसलिए ये कहना कोई गलत नहीं होगा कि आंखें बोलती है ।
आँखों की तरह हमारे शरीर की भी भाषा है जो उसके हाव-भाव से प्रकट होता है ।
यदि हमारे मन में किसी के प्रति प्रेम, द्वेष, आक्रोश, घृणा आदि जो भी होता है, शरीर अपने हाव-भाव से स्वतः ही जाहिर कर देता है । शब्दों से इन भावों को छुपाया जा सकता है, किन्तु शारीरिक भाषा इसका भेद भी खोल सकता है । हमारा शरीर मन या दिमाग पर निर्भर है । चेतन और अवचेतन मन हमारे शरीर को चलायमान रखता है ।
हमारे शब्दों पर भी इसी का आधिपत्य है ।
इसलिए हम कई बार अपने शब्दों पर अंकुश लगा लेते हैं, किन्तु शारीरिक हाव-भाव पर लगाना कठिन होता है । यही शारीरिक भाषा बहुत कुछ बयां कर देती है । कुछ लोग इसे समझ लेते हैं और कुछ लोग नहीं समझ पाते हैं ।
लेकिन कुछ ऐसे लोग भी होते हैं जो शारीरिक हाव-भाव से मन के भाव को प्रकट नहीं होने देते । ऐसे लोग अक्सर शातिर दिमाग वाले होते हैं ।
फिर भी भाषा तो भाषा ही है वो शब्दों की हो, आँखों की हो या शारीरिक हो, जिसे हम समझ सकते हैं ।

–पूनम झा ‘प्रथमा’
कोटा,राजस्थान
Mob-Wats – 9414875654

62 Views
You may also like:
आओ तुम
sangeeta beniwal
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
विजय कुमार 'विजय'
"चरित्र और चाय"
मनोज कर्ण
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
Loading...