Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jul 2022 · 1 min read

शायरी

तेरे माथे पर लटकी हुई ये लटै्

अब भी मुझे तेरा होने का एहसास दिलाती हैं!

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 153 Views
You may also like:
गंतव्यों पर पहुँच कर भी, यात्रा उसकी नहीं थमती है।
Manisha Manjari
*मेरे देश का सैनिक*
Prabhudayal Raniwal
मन को युवा कीजिए
Ashish Kumar
■ साबित होता सच...
*Author प्रणय प्रभात*
पैरासाइट
Shekhar Chandra Mitra
Writing Challenge- नायक (Hero)
Sahityapedia
लोग कहते हैं कैसा आदमी हूं।
सत्य कुमार प्रेमी
🚩अमर काव्य हर हृदय को, दे सद्ज्ञान-प्रकाश
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
प्रीति के दोहे, भाग-1
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
एक हक़ीक़त
shabina. Naaz
संसर्ग मुझमें
Varun Singh Gautam
,अगर तुम हमसफ़र होते
Kaur Surinder
विश्व जनसंख्या दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे जग्गू दादा
Baishali Dutta
"एक राष्ट्र एक जन" पुस्तक के अनुसार
Ravi Prakash
✍️हौंसला जवाँ उठा है✍️
'अशांत' शेखर
अश्रुपात्र A glass of tears भाग 9
Dr. Meenakshi Sharma
आये हो मिलने तुम,जब ऐसा हुआ
gurudeenverma198
यह कैसा प्यार है
Anamika Singh
परिचय- राजीव नामदेव राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
उड़ चले नीले गगन में।
Taj Mohammad
डूब कर इश्क में जीना सिखा दिया तुमने।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
काँटों का दामन हँस के पकड़ लो
VINOD KUMAR CHAUHAN
जल
Saraswati Bajpai
त्याग
मनोज कर्ण
क्या रखा है, वार (युद्ध) में?
Dushyant Kumar
हमने जब तेरा
Dr fauzia Naseem shad
जो मौका रहनुमाई का मिला है
Anis Shah
प्रणय-बंध
Rashmi Sanjay
Loading...