Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#19 Trending Author
Apr 23, 2022 · 1 min read

शायद…

खुदाने बनाया नायाब नमूना
जैसे हो कोई खिलौना…!
जब चाहे…जैसे चाहे… चलाये उसे..!!
मृत्यु लोक की धरा पे छोड़ा उसे खुला..!
पहचान बनाई इंसान की…
पर…शायद कमी रह गई इंसानियत की…!!!!

88 Views
You may also like:
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बड़ा भाई बोल रहा हूं
Satpallm1978 Chauhan
दहेज़
आकाश महेशपुरी
एहसासों के समंदर में।
Taj Mohammad
महाभारत की नींव
ओनिका सेतिया 'अनु '
हे मात जीवन दायिनी नर्मदे हर नर्मदे हर नर्मदे हर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पारिवारिक बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
यह सूखे होंठ समंदर की मेहरबानी है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
हो रही है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
उसूल
Ray's Gupta
एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
✍️✍️गुमराह✍️✍️
"अशांत" शेखर
दर्पण!
सेजल गोस्वामी
अब तो इतवार भी
Krishan Singh
💐प्रेम की राह पर-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*अमृत-सरोवर में नौका-विहार*
Ravi Prakash
माँ का प्यार
Anamika Singh
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
ठंडे पड़ चुके ये रिश्ते।
Manisha Manjari
हमलोग
Dr.sima
🌺🌺🌺शायद तुम ही मेरी मंजिल हो🌺🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्यार करके।
Taj Mohammad
जाने कैसी कैद
Saraswati Bajpai
प्रेम
Dr.sima
*सभी को चाँद है प्यारा ( मुक्तक)*
Ravi Prakash
आपकी याद
Abhishek Upadhyay
मेरी जिन्दगी से।
Taj Mohammad
आंचल में मां के जिंदगी महफूज होती है
VINOD KUMAR CHAUHAN
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
Loading...