Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Apr 2023 · 1 min read

शादी होते पापड़ ई बेलल जाला

शादी होते पापड़ ई बेलल जाला
जिनिगी के ठेला तरिया ठेलल जाला
लइकन के शादी मनभावन लागे पर
लइका का जाने सन ई झेलल जाला

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 20/04/2023

2 Likes · 339 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुरु रामदास
गुरु रामदास
कवि रमेशराज
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरे अल्फाज़
मेरे अल्फाज़
Dr fauzia Naseem shad
मतदान करो और देश गढ़ों!
मतदान करो और देश गढ़ों!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
2314.पूर्णिका
2314.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
परीक्षा
परीक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वृक्ष की संवेदना
वृक्ष की संवेदना
Dr. Vaishali Verma
*शिवरात्रि*
*शिवरात्रि*
Dr. Priya Gupta
"घोषणा"
Dr. Kishan tandon kranti
बधाई का गणित / मुसाफ़िर बैठा
बधाई का गणित / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस
छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
श्री राम अर्चन महायज्ञ
श्री राम अर्चन महायज्ञ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरा प्यारा भाई
मेरा प्यारा भाई
Neeraj Agarwal
जानते वो भी हैं...!!
जानते वो भी हैं...!!
Kanchan Khanna
पाती कोई जब लिखता है।
पाती कोई जब लिखता है।
डॉक्टर रागिनी
सच्ची बकरीद
सच्ची बकरीद
Satish Srijan
महाकाल भोले भंडारी|
महाकाल भोले भंडारी|
Vedha Singh
.
.
*Author प्रणय प्रभात*
समाज मे अविवाहित स्त्रियों को शिक्षा की आवश्यकता है ना कि उप
समाज मे अविवाहित स्त्रियों को शिक्षा की आवश्यकता है ना कि उप
शेखर सिंह
जो दिखाते हैं हम वो जताते नहीं
जो दिखाते हैं हम वो जताते नहीं
Shweta Soni
ज्योति कितना बड़ा पाप तुमने किया
ज्योति कितना बड़ा पाप तुमने किया
gurudeenverma198
वीकेंड
वीकेंड
Mukesh Kumar Sonkar
सत्य
सत्य
लक्ष्मी सिंह
सौन्दर्य के मक़बूल, इश्क़! तुम क्या जानो प्रिय ?
सौन्दर्य के मक़बूल, इश्क़! तुम क्या जानो प्रिय ?
Varun Singh Gautam
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
Desert fellow Rakesh
कँहरवा
कँहरवा
प्रीतम श्रावस्तवी
*कालरात्रि महाकाली
*कालरात्रि महाकाली"*
Shashi kala vyas
!! मेरी विवशता !!
!! मेरी विवशता !!
Akash Yadav
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
Santosh Soni
किया विषपान फिर भी दिल, निरंतर श्याम कहता है (मुक्तक)
किया विषपान फिर भी दिल, निरंतर श्याम कहता है (मुक्तक)
Ravi Prakash
Loading...