Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2023 · 1 min read

शादी की अंगूठी

शादी की अंगूठी चांद से भी चमकती है,
जो प्रेम के बंधन को समेटती है।
ये एक आशीर्वाद का प्रतीक होती है,
जो दो जीवनों को एक साथ जोड़ती है।

शादी की अंगूठी एक सपना होती है,
जो हमेशा के लिए सच होती है।
ये एक वादा होती है दोनों का,
जो दो जीवनों को एक साथ बाँधता है।

शादी की अंगूठी एक आभूषण होती है,
जो हर नयी शुरुआत को सजाती है।
ये एक रिवाज होती है हमारे देश में,
जो प्रेम के बंधनों को मजबूत बनाती है।

शादी की अंगूठी एक विश्वास होती है,
जो हमेशा से जीवन का साथ देती है।
ये एक सौगात होती है प्रेम की,
जो दो जीवनों को एक साथ बाँधती है।

शादी की अंगूठी चांद से भी चमकती है,
जो प्रेम के बंधन को समेटती है।
ये एक आशीर्वाद का प्रतीक होती है,
जो दो जीवनों को एक साथ जोड़ती है।

18 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
प्रेमदास वसु सुरेखा
प्रयास
प्रयास
Dr fauzia Naseem shad
फितरत
फितरत
umesh mehra
पिता
पिता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
सफ़र
सफ़र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
जिस्मौ के बाजार में दिलजार करते हो
जिस्मौ के बाजार में दिलजार करते हो
कवि दीपक बवेजा
इस दौर में सुनना ही गुनाह है सरकार।
इस दौर में सुनना ही गुनाह है सरकार।
Dr. ADITYA BHARTI
DaminiQuotes
DaminiQuotes
Damini Narayan Singh
" तुम्हारी जुदाई में "
Aarti sirsat
उठ जाओ भोर हुई...
उठ जाओ भोर हुई...
जगदीश लववंशी
पुस्तकों से प्यार
पुस्तकों से प्यार
surenderpal vaidya
मैं उसी पल मर जाऊंगा
मैं उसी पल मर जाऊंगा
श्याम सिंह बिष्ट
💐प्रेम कौतुक-407💐
💐प्रेम कौतुक-407💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"एल्बम"
Dr. Kishan tandon kranti
सूरज आया संदेशा लाया
सूरज आया संदेशा लाया
AMRESH KUMAR VERMA
तेरी नादाँ समझ को समझा दे अभी मैं ख़ाक हुवा नहीं
तेरी नादाँ समझ को समझा दे अभी मैं ख़ाक हुवा नहीं
'अशांत' शेखर
आज फिर।
आज फिर।
Taj Mohammad
सागर की हिलोरे
सागर की हिलोरे
Satpallm1978 Chauhan
फूल चुनने वाले भी
फूल चुनने वाले भी
Chunnu Lal Gupta
ऋतुराज बसंत
ऋतुराज बसंत
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
लानत है
लानत है
Shekhar Chandra Mitra
*बड़े प्रश्न लें हाथ, सोच मत रखिए छोटी (कुंडलिया)*
*बड़े प्रश्न लें हाथ, सोच मत रखिए छोटी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
क्रोध
क्रोध
लक्ष्मी सिंह
वाह वाही कभी पाता नहीं हूँ,
वाह वाही कभी पाता नहीं हूँ,
Satish Srijan
NEEL PADAM
NEEL PADAM
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अब और ढूंढने की ज़रूरत नहीं मुझे
अब और ढूंढने की ज़रूरत नहीं मुझे
Aadarsh Dubey
किस्मत की लकीरें
किस्मत की लकीरें
Dr Praveen Thakur
श्री नेता चालीसा (एक व्यंग्य बाण)
श्री नेता चालीसा (एक व्यंग्य बाण)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बादलों के घर
बादलों के घर
Ranjana Verma
Loading...