Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 4, 2022 · 1 min read

शादी का उत्सव

जब होती है ये शादी
सब लोग झूमते गाते
होते हर्षों – उल्लासित
खाते-पीते मस्ती करते
शादी का उत्सव भव में
होता मनोहर, मनोरम
शादी का नाम सुन के
कुशा होते बड़ा हर्षित ।

पहले की परिणयों में
प्रणव, पटहों के संग
मुरव बजाये जाते थे
आज की निकाहों में
डी०जे०, आर्केस्ट्रा का
प्रचलन चल रहा यहां
साथ ही होते हैं दावत
इससे सब होते सानंद।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

48 Views
You may also like:
दिल की सुनाएं आप जऱा लौट आइए।
सत्य कुमार प्रेमी
मिथ्या मार्ग का फल
AMRESH KUMAR VERMA
हर हाल में ख़ुदी को
Dr fauzia Naseem shad
मुख पर तेज़ आँखों में ज्वाला
Rekha Drolia
✍️एक फ़रियाद..✍️
'अशांत' शेखर
"योग करो"
Ajit Kumar "Karn"
तेरी नजरों में।
Taj Mohammad
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ
Dr. Meenakshi Sharma
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
भोले भंडारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कर्म ही पूजा है।
Anamika Singh
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
✍️आदत और हुनर✍️
'अशांत' शेखर
गाँव के रंग में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
बिक रहा सब कुछ
Dr. Rajeev Jain
इरादा
Shivam Sharma
श्री हनुमत् ललिताष्टकम्
Shivkumar Bilagrami
दस्तक
Anamika Singh
प्यारा भारत
AMRESH KUMAR VERMA
दिल के जख्म कैसे दिखाए आपको
Ram Krishan Rastogi
*कृष्ण जैसा मित्र होना चाहिए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
क्या करे
shabina. Naaz
*माँ छिन्नमस्तिका 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
हमें तुम भुल गए
Anamika Singh
The shade of 'Bodhi Tree'
Buddha Prakash
चिड़िया और जाल
DESH RAJ
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
Loading...