Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

शाइरी काफ़ी नहीं सूरत बदलने के लिए

मंज़िले उल्फ़त तो है अरमाँ पिघलने के लिए
है नहीं गर कुछ तो बस इक राह चलने के लिए

बन्द कर आँखें इसी उम्मीद में बैठा हूँ मैं
कोई तो जज़्बा मचल उट्ठे निकलने के लिए

हैं हज़ारों लोग तो सूरज पे ही इल्ज़ाम क्यूँ
ख़ाक करने को ज़हाँ आतिश उगलने के लिए

ये ज़ुरूरी है के हो उम्दा ख़यालों पर अमल
शाइरी काफ़ी नहीं सूरत बदलने के लिए

और कितनी लानतें ग़ाफ़िल पे भेजी जाएँगी
आतिशे उल्फ़त में उसके यार जलने के लिए

-‘ग़ाफ़िल’

164 Views
You may also like:
ज्यादा रोशनी।
Taj Mohammad
छोड़कर ना जाना कभी।
Taj Mohammad
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
नवाब तो छा गया ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
♡ भाई-बहन का अमूल्य रिश्ता ♡
Dr. Alpa H. Amin
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
गुरु तेग बहादुर जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मयंक के जन्मदिन पर बधाई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आओ मिलके पेड़ लगाए !
Naveen Kumar
एक पल,विविध आयाम..!
मनोज कर्ण
होली का संदेश
Anamika Singh
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
हाँ, अब मैं ऐसा ही हूँ
gurudeenverma198
कोई न अपना
AMRESH KUMAR VERMA
बेकार ही रंग लिए।
Taj Mohammad
इब्ने सफ़ी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
निद्रा
Vikas Sharma'Shivaaya'
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
ऐसे हैं मेरे पापा
Dr Meenu Poonia
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
तुम्हारा प्यार अब नहीं मिलता।
सत्य कुमार प्रेमी
अदम्य जिजीविषा के धनी श्री राम लाल अरोड़ा जी
Ravi Prakash
प्रयास
Dr.sima
ख्वाब
Swami Ganganiya
पहली मुहब्बत थी वो
अभिनव मिश्र अदम्य
"आज बहुत दिनों बाद"
Lohit Tamta
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
मेरे गांव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर:भाग:2
AJAY AMITABH SUMAN
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पापा
Nitu Sah
Loading...