Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 18, 2022 · 1 min read

शांत वातावरण

जब रहता शांत वातावरण
मन रहता अहरणीय सदा
किसी भी विद्याम्यासों को
कम पढ़े फिर रहता याद
शांत वातावरण ही हमको
सिखाता शांत रहना‌ हमें ।

हमे किसी बात का फैसला
गुस्से,‌ प्रतिघात, आक्रोश में
कभी न ले अद्ल किसी का
शांत वातावरण में बैठ कर
सोच -समझकर ले फैसला
सौम्य ही मानुजों की स्मृति ।

हमें सदा रहना चाहिए संवेगहीन
धीर दिल में करता हरि निवास
शांत में लिया गया हर फैसला
क्रोध, आक्रोस वाला अद्ल से
होता लाख गुना उत्कर्ष , उत्तम
प्रभंजन ही हम सब की निशानी ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

239 Views
You may also like:
अल्फाज़ ए ताज भाग-1
Taj Mohammad
लोभ का जमाना
AMRESH KUMAR VERMA
तुम निष्ठुर भूल गये हम को, अब कौन विधा यह...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दोषस्य ज्ञानं निर्दोषं एव भवति
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खुदा ने जो दे दिया।
Taj Mohammad
सफल होना चाहते हो
Krishan Singh
दिल के रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
सच्चा रिश्ता
DESH RAJ
पिता पच्चीसी दोहावली
Subhash Singhai
"एक अत्याचार"
पंकज कुमार "कर्ण"
धरती से मिलने को बादल जब भी रोने लग गया।
सत्य कुमार प्रेमी
चल रहा वो
Kavita Chouhan
$दोहे- हरियाली पर
आर.एस. 'प्रीतम'
ज़िंदा हूं मरा नहीं हूं।
Taj Mohammad
माँ
अश्क चिरैयाकोटी
पत्थर दिल है।
Taj Mohammad
आकार ले रही हूं।
Taj Mohammad
पिता
Vijaykumar Gundal
💐 देह दलन 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेचैन कागज
Dr Meenu Poonia
फिर झूम के आया सावन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मालूम था।
Taj Mohammad
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
सास-बहू के झगड़े और मनोविज्ञान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
इश्क
goutam shaw
शाम सुहानी सावन की
लक्ष्मी सिंह
पितृ नभो: भव:।
Taj Mohammad
बुलंद सोच
Dr.Alpa Amin
" हमरा सबकें ह्रदय सं जुड्बाक प्रयास हेबाक चाहि "
DrLakshman Jha Parimal
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
Loading...