Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 24, 2016 · 1 min read

शांत और मुक्त भी मैं ,निर्भय हूँ निराश्रय:: जितेंद्रकमलआनंद( पोस्ट१०३)

राजयोगमहागीता: घनाक्षरी : अधंयाय२ छंद १८
————————–
शांत और मुक्त भी मै , निर्भय हूँ निराश्रय ,
न ही मोक्षाकांक्षी हूँ , न ही हूँ मैं बंधन में ।
मैं मुक्त सदा भंरांति से , अशांति से भी मुक्त हूँ
मैं करता मनन न ही पाता क्रंदन में ।
मैंने जान लिया है , विशुद्ध चिन्मात्र , आत्मा को ,
मैं हहता बुद्ध , शुद्ध , प्रबुद्ध चिंतन में ।
स्वयं ही आनंदित होता हूँ स्वयं से स्वयं में ,
जगत तमाशे में , क्या रक्खा मनोरंजन में ।।

—— जितेंद्रकमलआनंद
सॉई बिहार कालोनी , रामपुर ( उ प्र ) पिन २४४९०१

157 Views
You may also like:
✍️अग्निपथ...अग्निपथ...✍️
"अशांत" शेखर
लाशें बिखरी पड़ी हैं।(यूक्रेन पर लिखी गई ग़ज़ल)
Taj Mohammad
बारहमासी समस्या
Aditya Prakash
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
गर्दिशे जहाँ पा गये।
Taj Mohammad
पर्यावरण पच्चीसी
मधुसूदन गौतम
मालूम था।
Taj Mohammad
आदमी आदमी से डरने लगा है
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️बात मुख़्तसर बदल जायेगी✍️
"अशांत" शेखर
श्री राम
नवीन जोशी 'नवल'
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
किसी को गिराया नहीं मैनें।
Taj Mohammad
*देखने लायक नैनीताल (गीत)*
Ravi Prakash
पुकार सुन लो
वीर कुमार जैन 'अकेला'
मत भूलो देशवासियों.!
Prabhudayal Raniwal
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
बाज़ी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
Gazal
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
बिक रहा सब कुछ
Dr. Rajeev Jain
महिला काव्य
AMRESH KUMAR VERMA
लौटे स्वर्णिम दौर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️घुसमट✍️
"अशांत" शेखर
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"DIDN'T LEARN ANYTHING IF WE DON'T PRACTICE IT "
DrLakshman Jha Parimal
अम्मा/मम्मा
Manu Vashistha
✍️वो उड़ते रहता है✍️
"अशांत" शेखर
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
Loading...