Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2020 · 1 min read

शह

कोई शह दे देता है अपने पंखों की उड़ान को ।
तो कोई हवा देता है उस आसमान को।।
बना कर खुद को अलग अपने सलीकों से।
रंग देता है फिर से उस आसमान को।।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
2 Likes · 196 Views
You may also like:
तू है ना'।।
तू है ना'।।
Seema 'Tu hai na'
तो क्या हुआ
तो क्या हुआ
Faza Saaz
***
*** " बसंती-क़हर और मेरे सांवरे सजन......! " ***
VEDANTA PATEL
✍️पेट की भूख का शोर
✍️पेट की भूख का शोर
'अशांत' शेखर
महाशिव रात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ
महाशिव रात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
प्यार का रिश्ता
प्यार का रिश्ता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
क्रांति के अग्रदूत
क्रांति के अग्रदूत
Shekhar Chandra Mitra
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
कैसी-कैसी हसरत पाले बैठे हैं
कैसी-कैसी हसरत पाले बैठे हैं
विनोद सिल्ला
नेता (Leader)
नेता (Leader)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
वह ठहर जाएगा ❤️
वह ठहर जाएगा ❤️
Rohit yadav
पूज्य हीरा बा के देवलोकगमन पर
पूज्य हीरा बा के देवलोकगमन पर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तेरी सख़्तियों के पीछे
तेरी सख़्तियों के पीछे
ruby kumari
जयकार हो जयकार हो सुखधाम राघव राम की।
जयकार हो जयकार हो सुखधाम राघव राम की।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
प्यार है रब की इनायत या इबादत क्या है।
प्यार है रब की इनायत या इबादत क्या है।
सत्य कुमार प्रेमी
हां मुझे प्यार हुआ जाता है
हां मुझे प्यार हुआ जाता है
Surinder blackpen
🌷सारे सवालों का जवाब मिलता है 🌷
🌷सारे सवालों का जवाब मिलता है 🌷
Khedu Bharti "Satyesh"
एक  चांद  खूबसूरत  है
एक चांद खूबसूरत है
shabina. Naaz
शब्द उनके बहुत नुकीले हैं
शब्द उनके बहुत नुकीले हैं
Dr Archana Gupta
तू ही है साकी तू ही मैकदा पैमाना है,
तू ही है साकी तू ही मैकदा पैमाना है,
Satish Srijan
■ ग़ज़ल / अब मेटी नादानी देख...!
■ ग़ज़ल / अब मेटी नादानी देख...!
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी भर का चैन ले गए।
जिंदगी भर का चैन ले गए।
Taj Mohammad
नरक चतुर्दशी
नरक चतुर्दशी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अधीर मन खड़ा हुआ  कक्ष,
अधीर मन खड़ा हुआ कक्ष,
Nanki Patre
🌺प्रेम कौतुक-194🌺
🌺प्रेम कौतुक-194🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नमन पूर्वजों के चरणों में ( श्रद्धा गीत )
नमन पूर्वजों के चरणों में ( श्रद्धा गीत )
Ravi Prakash
देव भूमि - हिमान्चल
देव भूमि - हिमान्चल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीने की कला
जीने की कला
Shyam Sundar Subramanian
आंधियां अपने उफान पर है
आंधियां अपने उफान पर है
कवि दीपक बवेजा
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
Ram Krishan Rastogi
Loading...