Jan 17, 2022 · 1 min read

शहीद वीर

काॅप उठा अम्बर भी देखो धरती अश्क वहा उठी कैसी ये मुश्किल आई चारो और पुकार पडी।। दहल गये हदय होगे। प्रकृति भी मुह मोड खडी। । सन सन करती पवनो में। । अवलाओ की चीख भरी। ।। नीर उछलता लहरे भी कुछ कहती हे।। धरा हदय भी विहवल है। खग गुजन में एक शोर भरा। । पर्वत शिला कुछ कहती हे। । जो वीर भये वो स्वर्ग गये।। गूज भरी अवलाओ की।।। शिथिल हुये माॅ के सीने। । बेटो के बलिदानो पर। ।।

117 Views
You may also like:
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
हुस्न में आफरीन लगती हो
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
कर तू कोशिश कई....
Dr. Alpa H.
श्रृंगार
Alok Saxena
अक्षय तृतीया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
** भावप्रतिभाव **
Dr. Alpa H.
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
नेकी कर इंटरनेट पर डाल
हरीश सुवासिया
मौत बाटे अटल
आकाश महेशपुरी
दरों दीवार पर।
Taj Mohammad
लिख लेते हैं थोड़ा थोड़ा
सूर्यकांत द्विवेदी
ज़ाफ़रानी
Anoop Sonsi
👌राम स्त्रोत👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
हम आ जायेंगें।
Taj Mohammad
ग्रीष्म ऋतु भाग ४
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ख्वाब
Swami Ganganiya
"सुकून"
Lohit Tamta
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
#जातिबाद_बयाना
D.k Math
फरिश्तों सा कमाल है।
Taj Mohammad
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
💐💐प्रेम की राह पर-11💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
【11】 *!* टिक टिक टिक चले घड़ी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
**यादों की बारिशने रुला दिया **
Dr. Alpa H.
पिता
Manisha Manjari
शहीद रामचन्द्र विद्यार्थी
Jatashankar Prajapati
बिल्ली हारी
Jatashankar Prajapati
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
Loading...