Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2022 · 1 min read

शहीदों के नाम

अमर शहीदों पर शब्दों के दो फूल चढ़ाते हैं,
आओ 15अगस्त मनाते हैं,

हँस हँस कर जो मातृभूमि पर अपना सीस चढ़ाते हैं,
अमर शहीदों…

लड़ने वाले ने क्या खूब लड़ा, चंद्रशेखर और भगत सिंह कोई बोस कहाते हैं,

अमर शहीदों पर…

हूं नतमस्तक उन मां के बीरो पर
जो पुलवामा के शरहद पर कट जाते हैं,
अमर शहीद पर…

हम क्या जाने उस विधवा की पीड़ा
जिसका पति शरहद पर मर जाते हैं,
अमर शहीद पर….

कौन जवाब दे उस नन्हें बालक को
पूछता मां से तिरंगे में कौन लिपट के आते हैं

अमर शहीदों पर…..

किया कुरवान जीवन को जिसने इस धरा पर
उसकी गाथा गाते हैं
अमर शहीदों पर शब्दों के दो फूल चढ़ाते हैं
आओ 15अगस्त मनाते हैं।

1 Like · 44 Views
You may also like:
आप हारेंगे हौसला जब भी
Dr fauzia Naseem shad
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
कर्म का मर्म
Pooja Singh
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
अब कहाँ उसको मेरी आदत हैं
Dr fauzia Naseem shad
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
माँ की याद
Meenakshi Nagar
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बहुमत
मनोज कर्ण
वक़्त को वक़्त
Dr fauzia Naseem shad
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...