Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Aug 2020 · 1 min read

शहीदों का यशगान

घनाक्षरी छंद
——————–
सीमा में डटे जवान , हथेली में रखे जान।
हिन्द के बलिहारो का, मान होना चाहिए ।
देश की बढायी शान , शहीदों का यशगान,
वाणी में मधुर तान , सदा होना चाहिए ।
गांधी सुभाष दर्शन ,जग बने पहचान ,
आजादी का ये विधान,सच होना चाहिए ।
अभी आये फरमान , नव समता तान ,
उदित हो दिनमान , बुद्ध होना चाहिए ।
—————-+++++——————-
स्वरचित –
शेख जाफर खान

13 Likes · 10 Comments · 404 Views
You may also like:
रामायण आ रामचरित मानस मे मतभिन्नता -खीर वितरण
Acharya Rama Nand Mandal
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
भारतीय संस्कृति और उसके प्रचार-प्रसार की आवश्यकता
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
ज़िंदगी नरक बा इहां
Shekhar Chandra Mitra
मुझे छल रहे थे
Anamika Singh
हमें हटानी है
surenderpal vaidya
कहानी,✍️✍️
Ray's Gupta
श्री राधा जन्माष्टमी
बिमल तिवारी आत्मबोध
साढ़े सोलह कदम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चलते रहना ही बेहतर है, सुख दुख संग अकेली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
* हे सखी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वफादारी
shabina. Naaz
तस्वीर
विशाल शुक्ल
सोए है जो कब्रों में।
Taj Mohammad
रंगमंच है ये जगत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
★HAPPY GANESH CHATURTHI★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
ख़्वाहिश है तेरी
VINOD KUMAR CHAUHAN
कितनी महरूमियां रूलाती हैं
Dr fauzia Naseem shad
तूने किया हलाल
Jatashankar Prajapati
*उजाले से लड़ा‌ई में अॅंधेरा हार जाता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
अंधे का बेटा अंधा
AJAY AMITABH SUMAN
✍️आँखरी सफर✍️
'अशांत' शेखर
चलो करें धूम - धड़ाका..
लक्ष्मी सिंह
सपने जब पलकों से मिलकर नींदें चुराती हैं, मुश्किल ख़्वाबों...
Manisha Manjari
टिप्पणियों ( कमेंट्स) का फैशन या शोर
ओनिका सेतिया 'अनु '
कितनी पीड़ा कितने भागीरथी
सूर्यकांत द्विवेदी
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
गलती का समाधान----
सुनील कुमार
ये कैसी आज़ादी - कविता
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मेरी चुनरिया
DESH RAJ
Loading...