Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

शहीदों का यशगान

घनाक्षरी छंद
——————–
सीमा में डटे जवान , हथेली में रखे जान।
हिन्द के बलिहारो का, मान होना चाहिए ।
देश की बढायी शान , शहीदों का यशगान,
वाणी में मधुर तान , सदा होना चाहिए ।
गांधी सुभाष दर्शन ,जग बने पहचान ,
आजादी का ये विधान,सच होना चाहिए ।
अभी आये फरमान , नव समता तान ,
उदित हो दिनमान , बुद्ध होना चाहिए ।
—————-+++++——————-
स्वरचित –
शेख जाफर खान

12 Likes · 10 Comments · 327 Views
You may also like:
धार छंद "आज की दशा"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
नववर्ष का संकल्प
DESH RAJ
अपने और जख्म
Anamika Singh
निराला जी की मजदूरन
rkchaudhary2012
ए ! सावन के महीने क्यो मचाता है शोर
Ram Krishan Rastogi
“पिया” तुम बिन
DESH RAJ
हर घर तिरंगा
Dr Archana Gupta
तिरंगा
आकाश महेशपुरी
✍️ये आज़माईश कैसी?✍️
'अशांत' शेखर
वसंत का संदेश
Anamika Singh
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
✍️जंग टल जाये तो बेहतर है✍️
'अशांत' शेखर
'बेवजह'
Godambari Negi
तू हैं शब्दों का खिलाड़ी....
Dr.Alpa Amin
पिता
अवध किशोर 'अवधू'
एक तिरंगा मुझको ला दो
लक्ष्मी सिंह
थक चुकी ये ज़िन्दगी
Shivkumar Bilagrami
माँ गंगा
Anamika Singh
खुशियों का मोल
Dr fauzia Naseem shad
नशामुक्ति (भोजपुरी लोकगीत)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मेरे वतन मेरे चमन ,तुम पर हम कुर्बान है
gurudeenverma198
श्री गंगा दशहरा द्वार पत्र (उत्तराखंड परंपरा )
श्याम सिंह बिष्ट
जोकर vs कठपुतली
bhandari lokesh
तमन्ना अनूप
Dr.sima
गम देके।
Taj Mohammad
जिनकी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
फूलों की वर्षा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वह माँ नही हो सकती
Anamika Singh
वक्त दर्पण दिखा दे तो अच्छा ही है।
Renuka Chauhan
होता नहीं अब मुझसे
gurudeenverma198
Loading...