Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 13, 2021 · 2 min read

शर्माजी के अनुभव : पराश्रित

ढलती शाम और पार्क का किनारा
सुकून की तलाश में बैठा मैं बेचारा
स्वार्थियों के हुजूम दुनिया मे छाये है
दर्द सुनना भी अब एक व्यवसाय है
मेरी तरह तन्हा है, पर चिड़िया तो गाती है
क्या जिंदगी है, खाती है, पीती है, सो जाती है
एक मैं हूँ जो सुकून के लिए भी पराश्रित
अभी कुछ हुआ जिसे देखकर मैं था चकित
एक वृद्ध आये मेरे पास ही आकर बैठे
हम दोनों ही चुप थे मैं आदतन वो दुख सहते
देखकर लगा जैसे छू लूं तो रो देंगे अभी
दुख बढ़ता गया हो और कंधा नही मिला कभी
हिम्मत जुटा कर पूछ लेना चाहता था मैं
कि तभी एक छोटी गेंद ने चौका दिया हमें
कुछ पल बाद एक नन्ही परी आई
बच्ची से नजर मेरी हट नही पाई
बोली मेरी बॉल लेने आई हूँ मैं
कहकर जैसे शहद घोल दिया हो कानो में
बॉल लेकर वृद्ध की आंखों में झांक गई
रो रहे है अंकल, कहकर आंखे नही दिल तक भांप गई
वृद्ध फफक पड़े उसके कदमो में सर रखकर
बच्ची भी रो रही थी साथ उनका सिर सहलाकर
कुछ पल में गुबार जब ठंडा हो लिया
बोले जाओ खेलो अब मैं ठीक हूँ बिटिया
छुटकी चली गई मुस्कुराकर
वृद्ध अब ठीक थे किसी बोझ को बहाकर
हिम्मत कर पूछ लिया मैंने चाचा क्या मिला आंसू बहाकर
बोले अभी लौटा हूँ मैं जन्नत तक जाकर
जरा खुलकर कहिए चाचा, मैं कुछ समझा नही
बोले ये आंसू प्यार थे मेरी बेटी को जो कभी पहुंचे नही
चाचा क्या बेटी आपकी बहुत दूर गई
बोले अरे नही वो अपने घर से भाग गई
ये आंसू संभाले थे उसकी बिदाई के लिए
इन्हें साथ लेकर अब बूढ़ा कैसे जिये
आंसू नही थे बोझ थे मुझको थकाते थे
प्यार कम रह गया मेरा हर वक़्त जताते थे
अब स्वतंत्र है वो तो पराश्रित मैं भी नही
इस अर्थहीन पानी का अर्थ कुछ भी नही

1 Like · 183 Views
You may also like:
✍️किसान की आत्मकथा✍️
'अशांत' शेखर
वक्त की उलझनें
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
मां।
Taj Mohammad
लाख सितारे ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
✍️ये आज़माईश कैसी?✍️
'अशांत' शेखर
नवाब तो छा गया ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
सास-बहू
Rashmi Sanjay
✍️तलाश ज़ारी रखनी चाहिए✍️
'अशांत' शेखर
मेरा अक्स तो आब है।
Taj Mohammad
दर्द को मायूस करना चाहता हूँ
Sanjay Narayan
पानी के लिए लड़ेगी दुनिया, नहीं मिलेगा चुल्लू भर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ काम करो
Anamika Singh
छलके जो तेरी अखियाँ....
Dr.Alpa Amin
नर्सिंग दिवस विशेष
हरीश सुवासिया
वक्त को कब मिला है ठौर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बहते हुए लहरों पे
Nitu Sah
आईना हम कहाँ
Dr fauzia Naseem shad
क्यों मेरा
Dr fauzia Naseem shad
अपनी मर्ज़ी के मुताबिक सब हैं
Dr fauzia Naseem shad
👌स्वयंभू सर्वशक्तिमान👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
अब कोई कुरबत नहीं
Dr. Sunita Singh
अनोखा गुलाब (“माँ भारती ”)
DESH RAJ
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
साथ समय के चलना सीखो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मौत बाटे अटल
आकाश महेशपुरी
*श्री प्रदीप कुमार बंसल उर्फ मुन्ना बंसल की याद*
Ravi Prakash
वक़्त तबदीलियां भी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...