Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 15, 2021 · 1 min read

शराब

बीमारी के डर से क्या कोई,
जीना थोड़ी ना छोड़ देता हैँ //

और मरने के डर से क्या कोई,
पीना थोड़ी ना छोड़ देता हैँ //

घर की हिटलर से डरके,
भले एक दिन ना पिये //
पर क्या कोई शराबी…..
मयखाने की ओर,जाना थोड़ी ना छोड़ देता हैँ //

1 Like · 204 Views
You may also like:
✍️कही हजार रंग है जिंदगी के✍️
"अशांत" शेखर
✍️जीवन की ऊर्जा है पिता...!✍️
"अशांत" शेखर
✍️पाँव बढाकर चलना✍️
"अशांत" शेखर
शैशव की लयबद्ध तरंगे
Rashmi Sanjay
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*भक्त प्रहलाद और नरसिंह भगवान के अवतार की कथा*
Ravi Prakash
पिता हैं छाँव जैसे
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
माटी जन्मभूमि की दौलत ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
मत करना
dks.lhp
तुम्हें सुकूँ सा मिले।
Taj Mohammad
इश्क के मारे है।
Taj Mohammad
दौर।
Taj Mohammad
पिता की पीड़ा पर गीत
सूर्यकांत द्विवेदी
*प्लीज और सॉरी की महिमा {#हास्य_व्यंग्य}*
Ravi Prakash
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे सनम
DESH RAJ
#धरती-सावन
आर.एस. 'प्रीतम'
विद्यालय का गृहकार्य
Buddha Prakash
वो आवाज
Mahendra Rai
इस तरह से
Dr fauzia Naseem shad
લંબાવને 'તું' તારો હાથ 'મારા' હાથમાં...
Dr.Alpa Amin
अगर नशा सिर्फ शराब में
Nitu Sah
शम्बूक हत्या! सत्य या मिथ्या?
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*ध्यान में निराकार को पाना (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
एक किताब लिखती हूँ।
Anamika Singh
अग्निवीर
पाण्डेय चिदानन्द
आजकल के अपने
Anamika Singh
पिता का मर्तबा।
Taj Mohammad
प्यार का अलख
DESH RAJ
पैसा
Kanchan Khanna
Loading...