Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2016 · 1 min read

शरण में आया तेरी राम जी

शरण में आया तेरी राम जी

संग मेरे घूमते थे, संग मेरे खाते
करते थे, मुझसे वे बड़ी बड़ी बातें
दुर्दिन में मेरे वो ,आये नहीं काम जी
अब तो शरण में ,मैं आया तेरी राम जी

यार दोस्त देखे मैनें, देखे मैनें नाते
परे मेरे जाती हैं ,दुनिया की बातें
बचपन ,जबानी बीती , आयी अब शाम जी
अब तो शरण में ,मैं आया तेरी राम जी

शरण में आया तेरी राम जी
मदन मोहन सक्सेना

Language: Hindi
Tag: कविता
162 Views
You may also like:
ज़िंदा घर
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
*हनुमान धाम-यात्रा*
Ravi Prakash
मेरी आंखों में इश्क़ दिखता है
Dr fauzia Naseem shad
चांदनी रातें भी गमगीन सी हैं।
Taj Mohammad
सोचता रहता है वह
gurudeenverma198
तुम चली गई
Dr.Priya Soni Khare
प्रेम
Kanchan Khanna
एक प्यार ऐसा भी /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
स्वाधीनता आंदोलन में, मातृशक्ति ने परचम लहराया था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ख़ुलूसो - अम्न के साए में काम करती हूँ
Dr Archana Gupta
ये दिल है जो तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
एक असमंजस प्रेम...
Sapna K S
अहंकार और आत्मगौरव
अमित कुमार
मुस्कुराना सीख लो
Dr.sima
बेताब दिल की तमन्ना
VINOD KUMAR CHAUHAN
जीतकर ही मानेंगे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ममता
Rashmi Sanjay
हास्य दोहा अष्टमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ख्वाब
Swami Ganganiya
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
सब से खूबसूरत
shabina. Naaz
बुद्ध को हड़पने की साज़िश
Shekhar Chandra Mitra
कर कर के प्रयास अथक
कवि दीपक बवेजा
खेल दिवस पर विशेष
बिमल तिवारी आत्मबोध
कल्पना एवं कल्पनाशीलता
Shyam Sundar Subramanian
आदतें
AMRESH KUMAR VERMA
✍️सब खुदा हो गये✍️
'अशांत' शेखर
फूलो की कहानी,मेरी जुबानी
Anamika Singh
कहानी *"ममता"* पार्ट-4 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
भिखारी छंद एवं विधाएँ
Subhash Singhai
Loading...