Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 28, 2022 · 1 min read

शम्मा ए इश्क।

शम्मा ए इश्क में जानें कितने परवाने जल गए।
पर हस्ती ना मिटी इस इश्क की ज़माने हो गए।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

1 Like · 3 Comments · 51 Views
You may also like:
“ पहिल सार्वजनिक भाषण ”
DrLakshman Jha Parimal
दिल एक उम्मीद को तरसता है
Dr fauzia Naseem shad
ज़मीं पे रहे या फलक पे उड़े हम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रामपुर का इतिहास (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
मन पीर कैसे सहूँ
Dr. Sunita Singh
हमारें रिश्ते का नाम।
Taj Mohammad
मिलेंगे लोग कुछ ऐसे गले हॅंसकर लगाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गीत
शेख़ जाफ़र खान
काश तुम
Dr fauzia Naseem shad
जिन्दगी।
Taj Mohammad
भारतीय युवा
AMRESH KUMAR VERMA
खत किस लिए रखे हो जला क्यों नहीं देते ।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
इश्क नज़रों के सामने जवां होता है।
Taj Mohammad
# जज्बे सलाम ...
Chinta netam " मन "
ऐ काश, ऐसा हो।
Taj Mohammad
जीवन-दाता
Prabhudayal Raniwal
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
Yavi, the endless
रवि कुमार सैनी 'यावि'
दर्द सबका भी सब
Dr fauzia Naseem shad
पत्र की स्मृति में
Rashmi Sanjay
" मीनू की परछाई रानू "
Dr Meenu Poonia
یہ سوکھے ہونٹ سمندر کی مہربانی
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
मांडवी
Madhu Sethi
जिन्दगी की अहमियत।
Taj Mohammad
ए ! सावन के महीने क्यो मचाता है शोर
Ram Krishan Rastogi
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
✍️पुरानी रसोई✍️
'अशांत' शेखर
💐 माये नि माये 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...