Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

शब्द

शब्द जीवन्त होते हैं
और कालजयी भी
पर यह क्या हो गया है
शब्दों की संस्कृति
मर रही है
शब्द अब
घबड़ाने लगे है
प्रयोग की मार्मिक वेदना
उन्हें
विवश कर रहा है,
पलायन के लिए-
शब्दों की असामयिक मौत
होने लगी है
शब्द
सदमे में हैं
और
प्रतीक्षा कर रहे हैं
नए
जीवन की
नव प्रयोग की।

1 Like · 446 Views
You may also like:
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
संघर्ष
Sushil chauhan
आओ तुम
sangeeta beniwal
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता
Santoshi devi
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
अनामिका के विचार
Anamika Singh
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
पिता
Meenakshi Nagar
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
पहचान...
मनोज कर्ण
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
देश के नौजवानों
Anamika Singh
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
पिता
Dr.Priya Soni Khare
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
पिता
Mamta Rani
Loading...