Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#10 Trending Author
Apr 26, 2022 · 1 min read

शब्द नही है पिता जी की व्याख्या करने को।

सबको प्रेम डोर के सूत्र से बांधे रखते थे।
वह परिवार में पिता थे हमारे जो ऐसा करते थे।।1।।

हम सारे भाई अपने अपने पैरों पे खड़े थे।
पर पिता आज भी हमें चलना सिखाया करते थे।।2।।

वर्षों पहले काल ने मां को निगल लिया था।
बिना कुछ कहे वह विरह का दुख सहा करते थे।।3।।

ह्रदय उनका प्रेम में तो समंदर से गहरा था।
दुखी होकर भी वो सबको बड़ा हंसाया करते थे।।4।।

शब्द नही है पिता जी की व्याख्या करने को।
भावों की असहनीय पीड़ा में मुस्कुराया करते थे।।5।।

कभी कुछ भी ना कहा स्वयं के लिए उन्होंने।
ईश्वर तुल्य पिता हमारे यूं जीवन जिया करते थे।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

3 Likes · 6 Comments · 132 Views
You may also like:
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
हुस्न में आफरीन लगती हो
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
आशाओं के दीप.....
Chandra Prakash Patel
नजर तो मुझको यही आ रहा है
gurudeenverma198
रोग ने कितना अकेला कर दिया
Dr Archana Gupta
मेरे पिता
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
"साहिल"
Dr. Alpa H. Amin
मुक्तक ( इंतिजार )
N.ksahu0007@writer
हाइकु__ पिता
Manu Vashistha
धरती से मिलने को बादल जब भी रोने लग गया।
सत्य कुमार प्रेमी
परिवार दिवस
Dr Archana Gupta
कविता " बोध "
vishwambhar pandey vyagra
=*बुराई का अन्त*=
Prabhudayal Raniwal
वेदना जब विरह की...
अश्क चिरैयाकोटी
अथक प्रयत्न
Dr.sima
ये दिल टूटा है।
Taj Mohammad
✍️✍️हिमाक़त✍️✍️
"अशांत" शेखर
वेदना के अमर कवि श्री बहोरन सिंह वर्मा प्रवासी*
Ravi Prakash
वह मुझे याद आती रही रात भर।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
सच एक दिन
gurudeenverma198
हर लम्हा।
Taj Mohammad
GOD YOU are merciful.
Taj Mohammad
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
पिता एक सूरज
डॉ. शिव लहरी
माटी का है मनुष्य
"अशांत" शेखर
I feel h
Swami Ganganiya
आईना हूं सब सच ही बताऊंगा।
Taj Mohammad
उड़ जाएगा एक दिन पंछी, धुआं धुआं हो जाएगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नवजीवन
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...